प्रेस रिव्यू: अनिल अंबानी और पूर्व सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा भी पेगासस की सूची में

अनिल अंबानी

इमेज स्रोत, EUROPEAN PHOTOPRESS AGENCY

द इंडियन एक्सप्रेस में प्रकाशित एक रिपोर्ट के मुताबिक उद्योगपति अनिल अंबानी और सीबीआई के पूर्व निदेशक आलोक वर्मा के फ़ोन नंबर भी पेगासस जासूसी सूची में शामिल हैं.

अख़बार ने ये रिपोर्ट समाचार वेबसाइट द वॉयर की ख़बर के आधार पर प्रकाशित की है.

रिपोर्ट में दावा किया गया है कि सीबीआई के पूर्व विशेष निदेशक राकेश अस्थाना और पूर्व अतिरिक्त निदेशक एके शर्मा के नंबर भी जासूसी किए गए नंबरों की सूची में शामिल थे.

हो सकता है इन सबकी जासूसी भी पेगासस के ज़रिए की गई हो.

इस सूची में अनिल अंबानी के कर्मचारी टोनी जेसुडान और फ़्रांस की कंपनी दासो एविएशन के भारत में प्रतिनिधि वेंकट राव पोसीना का नंबर भी शामिल है.

रिपोर्ट के मुताबिक आलोक वर्मा के परिजनों के नंबर भी उन नंबरों की सूची में शामिल हैं जिनकी जासूसी किए जाने का शक है.

रिपोर्ट के मुताबिक अनिल अंबानी और उनके कर्मचारियों के नंबरों को साल 2018 में सूची में डाला गया था.

ये वो समय था जब भारत में रफ़ाल लड़ाकू विमान सौदे पर सवाल उठ रहे थे और इसे अदालत में चुनौती दी गई थी.

वहीं वर्मा का फ़ोन नंबर अक्तूबर 2018 में सूची में आया. ये वो समय था जब सीबीआई के अधिकारियों के बीच खींचतान चल रही थी.

उसी समय सीबीआई ने आलोक वर्मा के डिप्टी राकेश अस्थाना के ख़िलाफ़ मामला दर्ज किया था. दोनों ही अधिकारियों को उसी साल 23 अक्तूबर को पदमुक्त कर दिया गया था.

फ़्रांस की खोजी पत्रकारिता करने वाली संस्था फ़ॉरबिडेन स्टोरीज़ ने दुनिया के 16 मीडिया संस्थानों के साथ मिलकर पेगासस प्रोजेक्ट के तहत उन नंबरों की सूची प्रकाशित की है जिनकी जासूसी किए जाने का शक है.

द वॉयर ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि सूची में नंबर होने का मतलब ये है कि इसकी जासूसी का शक है, जासूसी कामयाब रही या नहीं यह मोबाइल की फ़ोरेंसिक जांच से ही स्पष्ट हो सकेगा.

गिरफ़्तारी से बचने के लिए कुंद्रा ने दी थी रिश्वत

इमेज स्रोत, ANI

हिंदुस्तान टाइम्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक राज कुंद्रा ने गिरफ़्तारी से बचने के लिए मुंबई पुलिस को 25 लाख रुपए की रिश्वत दी थी.

राज कुंद्रा को पोर्न फ़िल्में बनाने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है.

एंटी करप्शन ब्यूरो (भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो) के अधिकारियों के मुताबिक गिरफ़्तारी से बचने के लिए कुंद्रा ने मुंबई पुलिस के अधिकारियों को रिश्वत दी थी.

महाराष्ट्र एसीबी के अधिकारियों का कहना है कि उन्हें इस मामले में अन्य अभियुक्त यश ठाकुर उर्फ अरविंद श्रीवास्तव के चार ईमेल मिले हैं जिनसे पता चलता है कि उनसे भी इतना ही पैसा मांगा गया था.

श्रीवास्तव के ये ईमेल एसीबी ने मुंबई पुलिस को 30 अप्रैल को फ़ॉरवर्ड किए थे.

पुलिस ने श्रीवास्तव और उनके परिजनों के बैंक खाते भी सीज़ किए हैं. इनमें 6.5 करोड़ रुपए थे.

19 जुलाई को गिरफ़्तार किए गए राज कुंद्रा और उनकी कंपनी के आईटी हेड रियान थोर्प शुक्रवार तक पुलिस हिरासत में हैं.

पुलिस का कहना है कि पूछताछ के दौरान कुंद्रा ने सभी आरोपों को ख़ारिज किया है और पुलिस के कई सवालों का जवाब नहीं दिया है.

मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर के ख़िलाफ़ मुक़दमा दर्ज

इमेज स्रोत, THE INDIA TODAY GROUP

इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट के मुताबिक मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह और पांच अन्य पुलिसकर्मियों के ख़िलाफ़ मरीन ड्राइव थाने में धोखाधड़ी और अवैध वसूली करने के आरोप में मुक़दमा दर्ज हुआ है. इसमें दो अन्य लोग भी अभियुक्त हैं.

एक व्यापारी ने उन पर अवैध वसूली के आरोप लगाए हैं. रिपोर्ट के मुताबिक व्यापारी श्याम सुंदर अग्रवाल की शिकायत पर दो लोगों को गिरफ़्तार भी कर लिया गया है. संजय पुनामिया और सुनील जैन नाम के इन लोगों को सात दिनों की पुलिस हिरासत में भेजा गया है.

अग्रवाल का आरोप है कि पुलिस ने उन्हें झूठे मुक़दमे में फंसाकर ब्लैकमेल किया था. इस एफ़आईआर में परमबीर सिंह के अलावा एसीपी अकबर पठान, एसीपी संजय पाटिल, एसीपी श्रीकांत शिंदे और पुलिस इंस्पेक्टर अशोक कोर्के और नंदकुमार गोपाल शामिल हैं.

अग्रवाल का आरोप है कि उन्होंने फ़र्ज़ी मुक़दमे में गिरफ़्तारी से बचने के लिए पुलिस अधिकारियों को मोटी रकम चुकाई थी.

स्पर्म देने के कुछ घंटे बाद ही मरीज़ की मौत

इमेज स्रोत, Getty Images

द इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट के मुताबिक वडोदरा स्थित स्टर्लिंग हॉस्पिटल में गुजरात हाई कोर्ट के आदेश के बाद जिस मरीज़ का स्पर्म संरक्षित किया गया था उसकी मौत हो गई है.

32 वर्षीय इस व्यक्ति की गुरुवार को मौत हो गई है. उनकी पत्नी ने गुजरात हाई कोर्ट में याचिका दायर कर उनके वीर्य को सुरक्षित करने की मांग की थी ताकि वो संतान को जन्म दे सकें.

अस्पताल ने अदालत के आदेश के बाद वीर्य सुरक्षित कर लिया था.

इस दंपती की शादी आठ महीने पहले हुई थी और ये कनाडा से भारत आए थे. भारत में ही अपने पिता की देखभाल करते हुए उन्हें कोविड संक्रमण हो गया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)