आनंद गिरि कौन हैं और महंत नरेंद्र गिरि के साथ उनके कैसे रिश्ते थे?

  • अनंत प्रकाश
  • बीबीसी संवाददाता
आनंद गिरि

इमेज स्रोत, Facebook/anandgiriyoga

उत्तर प्रदेश पुलिस ने मंगलवार को अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की कथित आत्महत्या के मामले में उनके शिष्य आनंद गिरि के ख़िलाफ़ एफ़आईआर दर्ज की है.

इस एफआईआर में बाघंबरी मठ के व्यवस्थापक अमर गिरि ने आनंद गिरि पर आरोप लगाया गया है कि महंत नरेंद्र गिरि पिछले कुछ समय से आनंद गिरी की वजह से तनाव में चल रहे थे जिसके चलते उन्होंने अपनी जान दे दी.

पुलिस ने इस मामले में आनंद गिरी समेत कई अन्य लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू कर दी है. बता दें कि महंत नरेंद्र गिरि के पास से एक कथित सुसाइड नोट बरामद हुआ है जिसमें आनंद गिरी का ज़िक्र है.

निरंजन अखाड़े के संत एवं बाघंबरी मठ के महंत नरेंद्र गिरि और उनके शिष्य आनंद गिरि के बीच विवादों का सिलसिला एक लंबे समय से चलता आ रहा है.

बता दें कि हिंदू धर्म में इस समय कुल 13 अखाड़े हैं. इनमें से आवाहन अखाड़ा, अटल अखाड़ा, महानिर्वाणी अखाड़ा, आनंद अखाड़ा, निर्मोही अखाड़ा, दशनामी, निरंजनी और जूना अखाड़ा आदि प्रमुख अखाड़ों में गिने जाते हैं.

ये अखाड़े अपनी-अपनी परंपराओं में शिष्यों को दीक्षित करते हैं और उन्हें उपाधि देते हैं. नरेंद्र गिरि और आनंद गिरि निरंजनी अखाड़े से जुड़े थे. और पिछले कई सालों से बाघंबरी मठ की ज़िम्मेदारियां संभाल रहे थे.

इमेज स्रोत, Facebook/anandgiriyoga

इमेज कैप्शन,

आनंद गिरी को हाथ जोड़कर प्रणाम करते हुए केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह

कौन हैं आनंद गिरि

लंबी कद काठी, लंबे बाल और फ्रेंच कट दाढ़ी रखने वाले योग गुरू आनंद गिरि का जन्म साल 21 अगस्त 1980 को राजस्थान में हुआ था.

इसके बाद वह लगभग दस वर्ष की आयु में नरेंद्र गिरि के संपर्क में आए जो कि उन्हें हरिद्वार लेकर आए.

आनंद गिरि अपने एक इंटरव्यू में बताते हैं कि उन्होंने मात्र दस साल की उम्र में घर छोड़ दिया था. और इसके बाद वह कई सालों तक उत्तराखंड में रहे और फिर प्रयागराज पहुंचे.

इमेज स्रोत, Facebook/anandgiriyoga

अपने पासपोर्ट में माँ के नाम की जगह हिंदू देवी पार्वती और पिता के स्थान पर गुरु का नाम लिखवाने वाले आनंद गिरि दावा करते हैं कि वह ब्रिटेन और कनाडा समेत दुनिया की कई संसदों में भाषण दे चुके हैं.

एक योग गुरू के रूप में खुद की पहचान बनाने वाले आनंद गिरि कई देशों की यात्राएं कर चुके हैं.

लेकिन सार्वजनिक जीवन में उन्होंने जो क़द और रसूख हासिल किया है, उसमें प्रयागराज की अहम भूमिका रही है.

इमेज स्रोत, Facebook/anandgiriyoga

प्रयागराज से आनंद गिरी का संबंध

आनंद गिरि को क़रीब से जानने वाले कहते हैं कि प्रयागराज क्षेत्र में उन्हें एक रॉकस्टार साधु का दर्जा हासिल है. लोग उन्हें छोटे महाराज कहकर भी बुलाते हैं.

हैंडल छोड़कर बुलेट चलाने जैसे स्टंट कर चुके आनंद गिरि युवाओं के बीच ख़ासे लोकप्रिय हैं.

इसके साथ ही उनकी पहचान एक यूथ आइकन, स्टाइल आइकन और डायनेमिक गुरू की रही है.

इमेज स्रोत, Facebook/anandgiriyoga

हालांकि, प्रयागराज और बाघंबरी मठ को समझने वाले वरिष्ठ पत्रकार रतिभान त्रिपाठी मानते हैं कि आनंद गिरि का मूल परिचय संत नरेंद्र गिरि के शिष्य के रूप में ही है.

वे कहते हैं, "सुदर्शन व्यक्तित्व वाले आनंद गिरि जी किशोरावस्था से ही नरेंद्र गिरि जी के साथ रहे हैं. नरेंद्र जी हमेशा से कम बोलने वाले व्यक्ति थे. ऐसे में वह कई मौकों पर अपने शिष्य आनंद गिरि को बोलने का मौका देते थे.

आनंद गिरि को नरेंद्र गिरि के सबसे क़रीबी शिष्यों में से एक माना जाता था. और जब भी कोई मौका आया तो आनंद अपने गुरू का बचाव करते दिखे. बातचीत करने में माहिर आनंद गिरिने अपने आपको धीरे-धीरे एक योग गुरू के रूप में स्थापित किया."

प्रयागराज शहर में आनंद गिरि का रसूख किस स्तर का था, वो उनके फेसबुक प्रोफाइल पर लगी तमाम तस्वीरों में स्पष्ट होता है.

इमेज स्रोत, Facebook/anandgiriyoga

इमेज कैप्शन,

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला के साथ आनंद गिरि

कई तस्वीरों में वरिष्ठ पुलिसकर्मियों से लेकर केंद्रीय मंत्री स्तर के नेता उनके सामने हाथ जोड़े दिखाई देते हैं.

और अपने इंटरव्यूज़ में वह प्रदेश के उप-मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्या को केशव कहकर बुलाते दिखते हैं.

रतिभान त्रिपाठी इस रसूख की वजह समझाते हुए कहते हैं, "आनंद गिरि जी प्रयाग राज में बड़े हनुमान जी के मंदिर में प्रमुख भूमिका में रहे हैं. बड़े हनुमान जी प्रयागराज में नगर देवता के रूप में प्रतिष्ठित हैं. और वहां देश विदेश और दुनिया की तमाम हस्तियां दर्शन करने पहुंचती हैं.

मंदिर में आने वाली बड़ी - बड़ी हस्तियों को दर्शन कराने से लेकर आरती कराने जैसे कामों में वह अपने गुरू नरेंद्र गिरि के साथ मौजूद रहते थे. इस तरह इनका बड़े-बड़े लोगों से सीधी बातचीत और तालमेल बना."

इमेज स्रोत, Facebook/anandgiriyoga

ऑस्ट्रेलिया में यौन उत्पीड़न का आरोप

देश विदेश में योग सिखाने के लिए जाने वाले आनंद गिरि पर ऐसी ही एक विदेश यात्रा के दौरान यौन उत्पीड़न करने का आरोप लगाया गया था.

रतिभान त्रिपाठी बताते हैं, "वह लोगों को योग सिखाने के लिए विदेश जाया करते थे. लगभग दो-तीन साल पहले वह ऑस्ट्रेलिया गए थे जहां पर एक महिला ने इन पर ग़लत तरीके से स्पर्श करने का आरोप लगाया था. इस मामले में यह गिरफ़्तार हुए और जेल में रहे. इसके बाद वह क़ानूनी रूप से छूटकर बाहर आए. और कुंभ मेले के दौरान गुरू जी के शिष्य के रूप में काफ़ी सक्रिय रहे.

इमेज स्रोत, Facebook/anandgiriyoga

गुरु नरेंद्र गिरि के साथ विवाद

आनंद गिरि को क़रीब से जानने वाले कहते हैं कि उनके और नरेंद्र गिरि के बीच काफ़ी आत्मीय संबंध रहे हैं.

लेकिन बाघंबरी मठ की ज़मीन को लेकर विवाद होने के बाद गुरू और शिष्य ने खुलकर एक दूसरे के ऊपर आरोप लगाए.

आनंद गिरि ने महंत नरेंद्र गिरि पर आरोप लगाया था कि वह मठ की ज़मीनों को निजी स्तर पर बेच रहे हैं. इस मामले में उन्होंने प्रधानमंत्री, राष्ट्रपति एवं गृहमंत्री को पत्र लिखकर जांच करवाने की अपील भी की थी.

लेकिन इस मामले में निरंजन अखाड़ा समेत तमाम अन्य साधु संतों ने नरेंद्र गिरि का समर्थन किया. बताया जाता है कि इसके बाद उन्हें बाघंबरी मठ और निरंजन अखाड़े से निष्कासित कर दिया गया.

इमेज स्रोत, Facebook/anandgiriyoga

इमेज कैप्शन,

उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत के साथ आनंद गिरि

नरेंद्र गिरि से मांगी माफ़ी

हालांकि, कुछ समय बाद आनंद गिरि ने नरेंद्र गिरि से माफ़ी मांग ली जिसके वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुए.

बताया जाता है कि नरेंद्र गिरि ने इसके बाद भी आनंद गिरि को बाघंबरी मठ और बड़े हनुमान जी के मंदिर में वापसी नहीं करने दी.

इमेज स्रोत, Facebook/anandgiriyoga

इमेज कैप्शन,

रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भइया के साथ आनंद गिरि

छोड़कर पॉडकास्ट आगे बढ़ें
पॉडकास्ट
दिनभर: पूरा दिन,पूरी ख़बर (Dinbhar)

देश और दुनिया की बड़ी ख़बरें और उनका विश्लेषण करता समसामयिक विषयों का कार्यक्रम.

दिनभर: पूरा दिन,पूरी ख़बर

समाप्त

अखाड़ा परिषद को क़रीब से समझने वाले वरिष्ठ पत्रकार रवि उपाध्याय मानते हैं कि इसके लिए आनंद गिरि की महत्वाकांक्षा ज़िम्मेदार है.

वह कहते हैं, "इसमें दो राय नहीं है कि आनंद गिरि एक बहुत ही डायनेमिक और महत्वाकांक्षी व्यक्ति हैं. अंग्रेजी और हिंदी भाषा में निपुण आनंद गिरि अधिकारियों से लेकर नेताओं के सीधे संपर्क में थे. इसे ऐसे समझा जा सकता है कि अगर किसी को मंदिर में आरती से लेकर दर्शन आदि करने होते थे तो वह सीधे आनंद गिरि से संपर्क करता था. इससे उनके बड़े लोगों से राब्ता बन गया.

इसके साथ ही उन्होंने योग गुरू के रूप में खुद को स्थापित करने, गंगा सेना बनाने और माघ मेले के माध्यम से अपना प्रभाव क्षेत्र फैलाने की कोशिश की. समझा जाता है कि ये बात नरेंद्र गिरि के दूसरे शिष्यों को रास नहीं आई और उन्होंने नरेंद्र गिरि के कान भरना शुरू कर दिया. इससे शिष्य और गुरू में धीरे-धीरे दूरियां बढ़नी शुरू हो गयीं."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)