तूफ़ान 'आइला' ने 170 लोगों की जान ली

आइला तूफ़ान से प्रभावित
Image caption तूफ़ान 'आइला' ने भारत और बांग्लादेश में लाखों लोगों को बेघर कर दिया है

राहत अधिकारियों का कहना है कि समुद्री तूफ़ान 'आइला' ने पश्चिम बंगाल और बांग्लादेश में 170 से अधिक लोगों की जान ले ली है. साथ ही लगभग पाँच लाख लोगों को बेघर कर दिया है.

राहत कार्य में सेना और सुरक्षाबलों की मदद ली जा रही है लेकिन वे दूरदराज के इलाक़ों में अभी तक नहीं पहुँच पाए हैं. समुद्री तूफ़ान 'आइला' से पश्चिम बंगाल में मची तबाही के बाद राज्य के तटीय ज़िलों से 65 शवों को बरामद किया जा चुका है. पड़ोसी देश बांग्लादेश से 'आइला' की वजह से लगभग 90 लोगों के मारे जाने की ख़बर है. अधिकारियों का कहना है कि समुद्री तूफ़ान अब हल्का पड़ गया है और उसका रुख़ बंगाल की खाड़ी से उत्तर की दिशा की ओर हो गया.

धीमा पड़ा 'आइला'

'आइला' की वजह से पश्चिम बंगाल के ज़िले दार्जिलिंग में भारी बारिश हुई और मंगलवार को यहाँ हुए भूस्खलन में 11 लोग दब गए. 'आइला' का सबसे अधिक प्रभाव पश्चिम बंगाल के दक्षिण 24 परगना ज़िले पर पड़ा है. ज़िला अधीक्षक अपाला सेन ने बीबीसी को बताया कि इस ज़िले में 20 लोगों की मौत हो गई है. उन्होंने कहा, "समुद्री तूफ़ान का सबसे ज़्यादा कहर हमारे ही ज़िला पर पड़ा है. कम से कम एक लाख लोग बेघर हो गए हैं." उत्तरी 24 परगना में नौ लोगों की मौत की ख़बर है, जबकि कोलकाता से छह और हावड़ा ज़िले से सात लोगों के मारे जाने की ख़बर है. सुदंरबन के थालडीह गाँव के मलीना घरामी का कहना है, “हमने जीवन भर की जमा पूँजी 20 हज़ार रुपए लगा कर पिछले वर्ष झोपड़ी बनाई थी. हमारा घर टूट गया है. पता नहीं आज की रात मैं कहा सोऊँगा.” सुंदरबन के कई गाँवों और तटीय ज़िलों में समुद्र में आए उफान के कारण बाढ़ आ गई है. समुद्री तूफ़ान की वजह से क़रीब दो लाख लोग बेघर हो गए हैं. लोगों का कहना है कि उन्हें राहत की सामग्री नहीं मिल रही है.

संबंधित समाचार