आतंकवाद और उसके समर्थकों को रोकना होगा

मनमोहन सिंह
Image caption प्रधानमंत्री के अनुसार वैश्विक मंदी के दौरान गुट निरपेक्ष देशों की बड़ी भूमिका होगी.

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने गुट निरपेक्ष देशों के सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा है कि आतंकवादियों और उनको समर्थन करने वालों के साथ न्याय करने की ज़रुरत है.

अपने भाषण में प्रधानमंत्री ने कहा कि गुट निरपेक्ष देशों को आतंकवादी ढांचे को ख़त्म करने के लिए प्रयास करने की ज़रुरत है और आतंकवादियों को ही नहीं बल्कि उन लोगों को भी सज़ा देने की ज़रुरत है जो इन्हें समर्थन देते हैं.

उनका कहना था कि अगर वैश्विक मंदी के बाद की स्थितियों से निपटने के पर्याप्त उपाय नहीं किए गए तो इसके गंभीर परिणाम होंगे.

मनमोहन सिंह गुरुवार को पाकिस्तान के प्रधानमंत्री युसुफ़ रज़ा गिलानी से भी मुलाक़ात करेंगे.

उनका कहना था, '' जो लोग आतंकवादियों को समर्थन देते हैं उनके साथ भी न्याय करने की ज़रुरत है.'' प्रधानमंत्री ने किसी देश का नाम नहीं लिया लेकिन माना जा रहा है कि गुरुवार को जब वो पाकिस्तान के प्रधानमंत्री से मुलाक़ात करेंगे तो आतंकवाद एक बड़ा मुद्दा होगा.

प्रधानमंत्री ने संयुक्त राष्ट्र में अंतरराष्ट्रीय आतंकवाद पर एक सम्मेलन आयोजित करने का आह्वान किया और कहा कि ''अब समय आ गया है कि ऐसे एक सम्मेलन पर सहमति'' बने.

प्रधानमंत्री का कहना था कि पिछला कोई भी गुट निरपेक्ष सम्मेलन ऐसे समय में नहीं हुआ जब पूरी दुनिया में आर्थिक मंदी छाई हो.

उन्होंने कहा, '' अगर इस संकट के बाद की स्थितियों से ठीक से नहीं निपटा गया तो जटिल परिस्थितियां पैदा हो सकती हैं.''

प्रधानमंत्री ने कहा कि वैश्विक मंदी के मद्देनज़र गुटनिरपेक्ष देशों को एक बड़ी भूमिका अदा करनी है.

संबंधित समाचार