पाक के लिए भारत ख़तरा नहीं-मुशर्रफ़

परवेज़ मुशर्रफ़
Image caption परवेज़ मुशर्रफ़ का मानना है कि भारत और पाकिस्तान के बीच स्थाई शांति के अहम मुद्दे सुलझने ज़रूरी हैं

पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति जनरल परवेज़ मुशर्रफ़ ने कहा है कि भारत मौजूदा हालात में पाकिस्तान के लिए ख़तरा नहीं है. तालेबान और अल क़ायदा जैसे चरमपंथी संगठन फिलहाल पाकिस्तान के लिए बड़ा ख़तरा हैं.

अंग्रेज़ी समाचार चैनल सीएनएन-आईबीएन से ख़ास बातचीत में मुशर्रफ़ ने कहा कि मौजूदा हालात में वो राष्ट्रपति आसिफ अली ज़रदारी के उस बयान से इत्तेफ़ाक रखते हैं कि पाकिस्तान के लिए भारत फिलहाल ख़तरा नहीं है.

मुशर्रफ़ ने कहा कि भारत और पाकिस्तान के बीच विवादित मुद्दे जल्द हल होने चाहिए. उन्होंने कहा, मैंने हमेशा ही कहा है कि कश्मीर, सर क्रीक और सियाचिन विवाद अहम मुद्दे हैं.बदक़िस्मती से पानी का विवाद भी तेज़ी से बढ़ता जा रहा है.

उन्होंने कहा कि भारत कहता आया है कि वो इन मसलों का हल द्विपक्षीय बातचीत से चाहता है, लेकिन जब कभी दोनों देशों के बीच बातचीत हुई तो कश्मीर पर कोई प्रगति नहीं हुई. इसलिए पाकिस्तान के पास इस मसले का अंतर्राष्ट्रीयकरण करने के अलावा कोई विकल्प नहीं बचा.

उन्होंने कहा कि भारत में मुस्लिम युवाओं में असंतोष बढ़ रहा है, कश्मीर विवाद तो है ही. अगर हम चरमपंथ को खत्म करना चाहते हैं तो हमें सिर्फ़ अफ़ग़ानिस्तान और पाकिस्तान पर ही नहीं बल्कि भारत में हो रही घटनाओं पर भी ध्यान देना चाहिए.

चरमपंथी संगठनों लश्करे तैबा और जैशे मुहम्मद पर उन्होंने कहा कि कश्मीर मुद्दे पर ही इनका गठन हुआ और अब भारत में मुस्लिम अल्पसंख्यकों की हालत इन संगठनों को कायम रखे हुए है. ये सभी मुद्दे हल किए जाने ज़रूरी हैं.

मुशर्रफ़ ने कहा, जब तक पाकिस्तान में आईएसआई और सेना है, पाकिस्तान का कुछ नहीं बिगड़ सकता.

हालाँकि उन्होंने माना कि पाकिस्तान में हालात बहुत गंभीर हैं. उन्होंने कहा अफ़ग़ानिस्तान में जंग चल रही है. मुल्ला उमर अपने तालेबान लड़ाकों के साथ गठबंधन सेनाओं से लड़ रहे हैं. अल क़ायदा पाकिस्तान और अफ़ग़ानिस्तान दोनों जगह सक्रिय है और हमें उससे निपटना है.