नकली नोटों पर शिकायत होगी

भारत सरकार ने फ़ैसला किया है कि वह नकली नोट का मामला यूरोपीय संघ और ब्रिटेन के सामने ले जाएगा, जो पाकिस्तान को नोट बनाने का कागज़ और स्याही बेचते हैं.

Image caption विशेषज्ञों का अनुमान है कि भारतीय बाज़ार में करोड़ों रुपयों के नकली नोट घूम रहे हैं.

भारत का आरोप है कि ज़्यादातर नकली नोट पाकिस्तान से आ रहे हैं.

उल्लेखनीय है कि पिछले कुछ दिनों में विभिन्न स्थानों पर बड़ी संख्या में नकली नोट बरामद किए गए हैं.

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार गृह सचिव जीके पिल्लई ने कैबिनेट सचिव केएम चंद्रशेखर को इस मामले की पूरी जानकारी दी है.

एजेंसी के अनुसार उन्होंने बताया कि किस तरह से पाकिस्तान से बड़ी संख्या में नकली नोट भेजकर भारत की अर्थव्यवस्था को कमज़ोर करने की कोशिश की जा रही है.

कैबिनेट सचिव चंद्रशेखर ने इसके बाद भारतीय रिज़र्व बैंक, ख़ुफ़िया एजेंसी, आर्थिक सतर्कता ब्यूरो सहित कई अहम विभागों के अधिकारियों के साथ बैठक की है.

सरकारी सूत्रों के हवाले से कहा गया है कि इस बैठक में सभी एजेंसियों और राज्य सरकारों से नकली नोटों के मामले में सतर्क रहने को कहा गया है.

राज्य सरकारों को कहा गया है कि वे पुराने मामलों की जाँच के मामले में भी तेज़ी लाएँ.

इस बैठक में नकली नोटों के मामले से निपटने के लिए एजेंसियों के बीच बेहतर तालमेल पर भी विचार किया गया.

संबंधित समाचार