इज़्ज़त के नाम पर हत्याएँ...

मीडिया प्लेयर

इस ऑडियो/वीडियो के लिए आपको फ़्लैश प्लेयर के नए संस्करण की ज़रुरत है

किसी और ऑडियो/वीडियो प्लेयर में चलाएँ

भारत में अभी भी युवक-युवतियों को पंचायत, परिवार और गांव की मान-मर्यादा के नाम पर मौत के घाट उतार दिया जाता है. एक ग़ैर सरकारी संगठन का कहना है कि एक साल में कम से कम 650 युवक युवती इसका शिकार बनते हैं और इनमें से 90 प्रतिशत से ज़्यादा मामले हरयाणा, पंजाब और पश्चिमी उत्तरप्रदेश के होते हैं. बीबीसी संवाददाता श्यामसुंदर और ख़दीजा आरिफ़ ने इसकी विस्तार से जांच करके इस मामले की तह तक पहुंचने की कोशिश की है.

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.