कोल इंडिया ख़रीदेगी गांधी का घर

  • 6 अगस्त 2009

भारत की सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी कोल इंडिया जोहानसबर्ग में उस मकान को ख़रीदना चाहती है जो कई वर्षों तक महात्मा गांधी का निवास रहा था.

Image caption दक्षिण अफ़्रीका में ही महात्मा गांधी ने सत्याग्रह की शुरुआत की थी

भारत सरकार की ओर से कोल इंडिया को निर्देश दिए गए हैं कि दक्षिण अफ़्रीका की इस मकान को 'किसी भी क़ीमत पर' ख़रीद लिया जाए.

सरकार की योजना है कि ख़रीदने के बाद इसे स्मारक में तब्दील कर दिया जाएगा.

केंद्रीय कोयला मंत्री श्रीप्रकाश जायसवाल ने समाचार एजेंसी पीटीआई को बताया है कि कोल इंडिया को इस विषय में आवश्यक निर्देश दे दिए गए हैं.

उन्होंने बताया कि इस सौदे के सिलसिले में कोल इंडिया के अधिकारियों के साथ वे ख़ुद भी 17 अगस्त को दक्षिण अफ़्रीका जा रहे हैं.

केंद्रीय मंत्री ने बताया कि वे वहाँ मकान मालिक से मिलेंगे और सौदे के विषय में चर्चा करेंगे.

उन्होंने बताया, "हमें अख़बारों में प्रकाशित ख़बरों से पता चला है कि जोहानसबर्ग में वह मकान बिक रहा है जहाँ महात्मा गांधी ने अपने जीवन के कई वर्ष व्यतीत किए थे."

उनका कहना था कि यदि इस मकान को ख़रीदने के लिए भारतीय मूल का कोई व्यक्ति सामने आता है जो इसे स्मारक में तब्दील करने के लिए भी तैयार हो तो कोल इंडिया पीछे भी हट सकता है.

यह पूछे जाने पर कि क्या कोल इंडिया महात्मा गांधी से जुड़ी सारी परिसंपत्तियों को ख़रीदने की योजना बना रहा है, तो उन्होंने जवाब दिया कि फ़िलहाल ऐसी कोई योजना नहीं है.

केंद्रीय मंत्री जायसवाल का कहना था कि दक्षिण अफ़्रीका में राष्ट्रपिता के जीवन से जुड़े इस मकान को स्मारक का रुप दिया जाना चाहिए, इसलिए कोल इंडिया इसके लिए सामने आया है.

संबंधित समाचार