स्वाइन फ्लू: दो की हालत गंभीर

  • 7 अगस्त 2009
स्वाइन फ़्लू
Image caption पुणे में अब तक 120 लोग स्वाइन फ़्लू से पीड़ित पाए गए हैं

महाराष्ट्र के पुणे में स्वाइन फ्लू से पीड़ित दो लोगों को गंभीर अवस्था में अस्पातल में भर्ती कराया गया है.

इस बीच केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ग़ुलाम नबी आज़ाद में संसद में बताया है कि एच वन एन वन वायरस से निपटने के पर्याप्त इंतज़ाम पूरे देश में किए गए हैं.

पुणे में ही इस बीमारी से हुई पहली मौत के बाद यह मुद्दा संसद में उठा. तीन अगस्त को 14 साल की लड़की रिदा शेख ने अस्पताल में दम तोड़ दिया था.

सांसदों के सवालों का जवाब देते हुए ग़ुलाम नबी आज़ाद ने कहा, "रिदा का टेस्ट तब कराया गया जब वह वेंटिलेटर पर थी और उसकी हालत काफ़ी बिगड़ चुकी थी. अगर पहले टेस्ट हो जाता तो ये नौबत नहीं आती."

उन्होंने कहा कि पुणे में भी दवाइयों की कोई कमी नहीं है और लोगों को घबराना नहीं चाहिए.

रिदा की मौत के बाद पुणे के सरकारी अस्पतालों में टेस्ट कराने के लिए लोगों की लंबी कतार देखी जा रही है.

पुणे में अब तक स्वाइन फ़्लू के 120 मामले सामने आए हैं.

इस बीच तमिलनाडु सरकार ने सलाह जारी कर महाराष्ट्र के स्वाइन फ़्लू पीड़ित इलाक़ों से राज्य में आने वाले लोगों की जाँच करने को कहा है.

दो की हालत गंभीर

पुणे में स्वाइन फ़्लू से पीड़ित दो लोगों की हालत गंभीर बनी हुई है. चिकित्सा अधिकारी आरआर परदेशी ने बताया कि एक डॉक्टर को गंभीर अवस्था में सेसून जनरल अस्पताल के आईसीयू में भर्ती कराया गया है.

इसी अस्पताल में गुरुवार रात एक 35 वर्षीय व्यक्ति को गंभीर हालत में भर्ती कराया गया है.

डॉक्टर परदेशी ने बताया कि इन्हें एक निजी अस्पताल से यहां लाया गया है. दोनों मरीजों को वेंटिलेटर पर रखा गया है.

पिछले दो दिनों में पुणे के नायडू और औंध जनरल अस्पताल में टेस्ट कराने एक हज़ार से ज़्यादा लोग आ चुके हैं. वहां शुरुआती जांच के लिए 15 स्क्रीनिंग केन्द्र खोले गए है ताकि जिनमें कुछ ही लक्षण है उनकी शंकाओं का निवारण वही हो सके.

उधर दिल्ली, तमिलनाडु और केरल में भी जिन लोगों में भी इस वायरस के लक्षण दिखाई दे रहे है वो भी सरकारी अस्पतालों का रुख कर रहे है.

संबंधित समाचार