प्रधानमंत्री ने की स्थिति की समीक्षा

देश में स्वाइन फ़्लू से बढ़ते प्रकोप के बीच प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने स्थिति की समीक्षा की है.

Image caption स्वाइन फ़्लू की जाँच के लिए अस्पतालों में भीड़ लगी

उन्होंने स्वास्थ्य मंत्री ग़ुलाम नबी आज़ाद से कहा है कि वे बीमारी को नियंत्रित करने के लिए राज्य सरकारों के साथ मिल कर कोशिश करें.

प्रधानमंत्री कार्यालय के सूत्रों ने समाचार एजेंसी पीटीआई को बताया है कि प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने रविवार दोपहर स्वास्थ्य मंत्री ग़ुलाम नबी आज़ाद से बात की.

सूत्रों के मुताबिक़ प्रधानमंत्री ने उनसे कहा कि स्वाइन फ़्लू को लेकर लोगों के बीच जो ग़लत जानकारी है, उसे दूर किया जाए और उन्हें इस बारे में जागरूक करने की कोशिश की जाए.

प्रधानमंत्री ने स्वास्थ्य मंत्री से यह भी कहा है कि डॉक्टरों और विशेषज्ञों का एक पैनल बनाया जाए, जो एच1एन1 वायरस के बारे में लोगों को जानकारी दे. एच1एन1 वायरस से ही स्वाइन फ़्लू फैलता है.

उन्होंने यह भी हिदायत दी है कि केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राज्य के स्वास्थ्य सचिवों से नियमित संपर्क में रहें और बीमारी पर काबू पाने के लिए मिल-जुल कर क़दम उठाएँ.

इस बीच स्वास्थ्य मंत्री ग़ुलाम नबी आज़ाद ने नई दिल्ली में पत्रकारों को बताया कि दिल्ली, मुंबई, पुणे, चेन्नई, हैदराबाद और बंगलौर में एक लाख टैमीफ़्लू के टैबलेट भेजे जा रहे हैं. स्वाइन फ़्लू में टैमीफ़्लू टैबलेट ही कारगर होता है.

स्वास्थ्य मंत्री ने यह भी भरोसा दिलाया कि देश में इस टैबलेट का पर्याप्त भंडार है. ग़ुलाम नबी आज़ाद ने कहा कि सभी राज्य सरकारों को निर्देश दिया गया है कि वे स्वाइन फ़्लू के बारे में लोगों को जानकारी देने के लिए हेल्प लाइन स्थापित करें.

चार मौत

इस बीच देश में स्वाइन फ़्लू से मरने वालों की संख्या बढ़कर चार हो गई है. रविवार सुबह अहमदाबाद में 43 वर्षीय एक अप्रवासी भारतीय की मौत हो गई.

Image caption मनमोहन सिंह ने स्वास्थ्य मंत्री से बात की है

प्रवीण पटेल 10 दिन पहले अमरीका के अटलांटा से अहमदाबाद आए थे. रविवार तड़के सिटी सिविल अस्पताल में उनकी मौत हो गई.

स्वाइन फ़्लू के कारण सबसे पहले पुणे में 14 वर्षीय स्कूली छात्रा रिदा शेख़ की मौत हो गई थी.

जबकि शनिवार को पुणे में ही 42 वर्षीय संजय तुकाराम की मौत हो गई. शनिवार को ही मुंबई में 53 वर्षीय फ़हमिदा पानवाला की भी स्वाइन फ़्लू के कारण मौत हो गई.

हालाँकि फ़हमिदा को डायबिटीज़ और हाईपरटेंशन की भी शिकायत थी. देशभर में स्वाइन फ़्लू से प्रभावित लोगों की संख्या 782 तक पहुँच गई है.

कुल मिलाकर 500 से ज़्यादा मरीज़ों को इलाज के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है. बाक़ी लोगों को इलाज़ चल रहा है.

स्वाइन फ़्लू के कारण महाराष्ट्र का पुणे शहर सबसे ज़्यादा प्रभावित है. रविवार को पाँच सदस्यीय एक केंद्रीय टीम ने शहर का दौरा भी किया.

संबंधित समाचार