एफबीआई अधिकारियों की पेशी

कसाब
Image caption कसाब ने हमले में शामिल होने की बात पहले ही स्वीकार कर ली थी

अमरीकी खुफ़िया एजेंसी एफ़बीआई के एक अधिकारी ने मुंबई हमलों के मामले में बुधवार को विशेष अदालत के समक्ष अपना बयान दिया है.

ये गवाह एफबीआई में इलेक्ट्रानिक्स इंजीनियर और फोरेंसिक एक्सपर्ट हैं.

उन्होंने विशेष अदालत से कहा कि उन्होंने हमलों के बाद जब्त किए गए एक सेटेलाइट फ़ोन और तीन ग्लोबल पोजीशनिंग सिस्टम की जांच की है.

ऐसा पहली बार हुआ है जब मुंबई हमलों के मामले में किसी विदेशी ने अपना बयान दिया है.

एफबीआई अधिकारी ने बताया कि सेटेलाइट फ़ोन और जीपीएस से उन्हें कई मानचित्र मिले जिसमें से एक पाकिस्तान के समुद्री इलाक़ों से भेजा गया था.

अधिकारी ने नाम उजागर न करने की शर्त पर बताया, '' इसका रास्ता शुरु होता है कराची के समुद्री इलाक़े से और मुंबई तक पहुंचता है. इस रास्ते का नक्शा जीपीएस में सुरक्षित रखा गया था. इस सिस्टम में कराची, रावलपिंडी और मुंबई के कई इलाक़ों के नक्शे भी थे.''

एफबीआई ने मुंबई पुलिस के आग्रह पर जीपीएस और सेटेलाइट फ़ोनों की जांच की थी. एफबीआई के एक और अधिकारी वीडियो कांफ्रेंसिंग के ज़रिए बयान देने वाले हैं.

संबंधित समाचार