हत्या मामले में बाहुबलियों को सज़ा

  • 12 अगस्त 2009

बिहार में ग्यारह साल पहले तत्कालीन मंत्री ब्रज बिहारी प्रसाद की हत्या के मामले में पटना की एक निचली अदालत ने राज्य के बाहुबली कहे जाने वाले तीन नेताओं समेत आठ व्यक्तियों को उम्रक़ैद की सजा सुनाई है.

आजीवन कारावास की सजा पाने वालों में पूर्व सांसद सूरजभान सिंह ,विधायक मुन्ना शुक्ला और पूर्व विधायक राजन तिवारी शामिल हैं.

ब्रज बिहारी प्रसाद राज्य की राबड़ी देवी सरकार में विज्ञान और प्रोद्यौगिकी विभाग के मंत्री पद पर थे,जब उन्हें पटना के इंदिरा गाँधी आयुर्विज्ञान संस्थान परिसर में हमलावरों ने गोलियों से भून डाला गया था.

वर्ष 1998 के जून महीने में हुए इस हत्याकांड को लेकर उस समय भारी बवाल मचा था और बाद में इस मामले की जांच केन्द्रीय जांच ब्यूरो को सौंपी गई थी.

लगभग एक दशक तक चली सुनवाई के बाद बुधवार को पटना व्यवहार न्यायालय के जज विजय प्रकाश मिश्र ने नौ अभियुक्तों में से एक शशि कुमार राय को दो साल और बाकी आठ को उम्रकैद की सजा सुनाई.

पूर्व सांसद सूरजभान और विधायक मुन्ना शुक्ला पहले भी हत्या के मामले में सज़ा पा चुके हैं और फ़िलहाल दोनों ज़मानत पर हैं.

पूर्व विधायक राजन तिवारी एक अन्य मामले में पहले से ही जेल में हैं. ब्रज बिहारी प्रसाद की पत्नी श्रीमती रमा देवी सांसद हैं और पहले बिहार सरकार में मंत्री रह चुकी हैं.

संबंधित समाचार