उमर अब्दुल्ला ने माफ़ी माँगी

उमर अब्दुल्ला
Image caption उमर अब्दुल्ला ने शोपियां की घटना के लिए माफ़ी मांगी

जम्मू कश्मीर के मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने शोपियाँ में दो महिलाओं के साथ बलात्कार और हत्या के मामले में माफ़ी माँगी है और कहा है कि जल्दी ही दोषियों को सज़ा मिलेगी.

भारत प्रशासित कश्मीर में आज़ादी के दिन बंद का आह्वान था लेकिन सभी सरकारी कार्यक्रम बिना किसी दुर्घटना के संपन्न हुए हैं. श्रीनगर के बख्शी स्टेडियम में झंडा फहराने के बाद मुख्यमंत्री ने लोगों को संबोधित किया.

संबोधन में उमर अब्दुल्ला ने विशेष रुप से शोपियाँ की घटना का ज़िक्र करते हुए कहा कि सरकार ने शुरुआती दौर में इस घटना पर जिस तरह से कार्रवाई की वो एक ग़लती थी. उनका कहना था, ‘‘मैं इसके लिए माफ़ी मांगता हूँ.’’

मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार लोगों के मानवाधिकारों के संरक्षण के लिए पूरी तरह प्रतिबद्ध है और मानवाधिकार उल्लंघन बर्दाश्त नहीं किया जाएगा.

उन्होंने कहा कि शोपियाँ मामले के लिए ज़िम्मेदार लोगों को जल्दी ही सज़ा मिलेगी.

मुख्यमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार ने केंद्र सरकार के साथ कश्मीर के अंदरूनी सुरक्षा अभियानों से सेना को हटाने और आर्म्ड फोर्सेस स्पेशल पावर्स एक्ट को हटाने के मुद्दे पर गंभीर चर्चा की है.

उमर का कहना था कि इसका मतलब सुरक्षा कम करना नहीं होगा बल्कि ऐसा हुआ तो ये दर्शाएगा कि राज्य में स्थितियाँ कितनी बेहतर हुई हैं.

इस समय कश्मीर के 22 में 20 ज़िले संवेदनशील माने गए हैं जहाँ पुलिस, सेना और अर्धसैनिक बल तैनात हैं और उन्हें कई तरह के अधिकार हासिल हैं.

स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर कश्मीर में शनिवार को भी अन्य वर्षों की तरह अलगाववादियों ने बंद का आह्वान किया था. बंद के कारण दुकानें बिल्कुल नहीं खुलीं और यातायात ठप रहा.

हालाँकि दिन भर में कोई अप्रिय घटना नहीं हुई.

संबंधित समाचार