स्वाइन फ़्लू से अब तक 45 मौतें

स्वाइन फ़्लू से बचने के उपाय
Image caption लोग स्वाइन फ़्लू से बचने के उपाय कर रहे हैं

स्वाइन फ़्लू से तमिलना़डु में हुई एक और मौत के बाद भारत में इस घातक वायरस से मरने वालों की संख्या 45 हो गई है.

इससे पहले दिल्ली में दो मौतों की ख़बरें आईं थीं. दिल्ली में एच वन एन वन वायरस से होने वाली ये पहली मौतें थीं.

इस बीच केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ग़ुलाम नबी आज़ाद ने आरोप लगाया है कि राज्य सरकारें इस महामारी से निबटने के लिए पर्याप्त क़दम नहीं उठा रही हैं.

हालांकि उन्होंने कहा कि कुछ राज्यों में अच्छा काम किया है.

इस बीच स्वाइन फ़्लू से पीड़ित लोगों की संख्या में तेज़ी से बढ़ोत्तरी हुई है और अब इससे पीड़ित लोगों की संख्या 2,401 तक पहुँच गई है.

तमिलनाडु में गुरुवार को एक 45 वर्षीय व्यक्ति की मौत हुई है. गुरुवार को ही दिल्ली में गुरुवार को राममोहर लोहिया अस्पताल में दो लोगों की मौत हुई. अस्पताल के अधिकारियों के अनुसार इसमें एक 31 वर्षीय युवक और एक 38 वर्षीय महिला शामिल है.

इसके अलावा एक मौत बैंगलौर में हुई. वहाँ 45 वर्षीय एक व्यक्ति को 15 अगस्त को भर्ती किया गया था और तभी से उसका इलाज चल रहा था. उसकी मौत बुधवार को हुई.

बैंगलौर में ही एक 36 वर्षीय महिला की भी मौत हुई है.

कर्नाटक में अब तक स्वाइन फ़्लू से 10 मौतें हो चुकीं हैं.

इस घातक वायरस से सबसे अधिक मौतें महाराष्ट्र में हुई हैं. वहाँ अब तक 20 लोग मारे गए हैं जिसमें से सबसे अधिक 15 पुणे से हैं.

गुजरात में पाँच, दिल्ली और छत्तीसगढ़ में दो-दो और तमिलनाडु, केरल और उत्तराखंड में एक-एक मौत हो चुकी है.

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार बुधवार को स्वाइन फ़्लू के 159 नए मामले सामने आने के साथ ही देश में पीड़ितों की संख्या 2,401 हो गई है.

संबंधित समाचार