चिदंबरम ने पाकिस्तान का मुद्दा उठाया

  • 11 सितंबर 2009

गृह मंत्री पी चिदंबरम ने कहा है कि पाकिस्तान मुंबई हमले के दोषियों को सज़ा दिलाने के प्रति गंभीर नहीं है.

Image caption पी चिदंबरम ने हिलेरी क्लिंटन से मुलाक़ात की

अमरीका के चार दिवसीय दौरे पर गए गृह मंत्री चिदंबरम ने अमरीकी विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन से मुलाक़ात की.

मुलाक़ात के बाद संवाददाता सम्मेलन में चिदंबरम ने कहा कि उन्होंने हिलेरी क्लिंटन के साथ बातचीत में पाकिस्तान का मुद्दा उठाया और उन्हें बताया कि पाकिस्तान मुंबई हमले में शामिल लोगों के ख़िलाफ़ कार्रवाई नहीं कर रहा है.

उन्होंने कहा कि भारत की ओर से सबूत दिए जाने के बावजूद मुंबई हमलों की साज़िश रचने वाले हाफ़िज़ मोहम्मद सईद आज़ाद घूम रहे हैं.

हताशा

गृह मंत्री ने कहा कि हाफ़िज़ मोहम्मद सईद के मामले पर अमरीका भी हताश है.

पाकिस्तान के साथ बातचीत के मुद्दे पर पी चिदंबरम ने कहा कि इसका फ़ैसला अमरीका में नहीं बल्कि भारत में होगा.

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान जब तक आतंकवाद के ख़िलाफ़ कार्रवाई नहीं करता और मुंबई हमलों में शामिल लोगों पर कार्रवाई नहीं करता, उससे बातचीत नहीं होगी.

गृह मंत्री ने पत्रकारों को यह भी बताया कि पाकिस्तान से घुसपैठ की घटनाओं में बढ़ोत्तरी हुई है. उन्होंने बताया कि मई से हर महीने 50-60 घुसपैठ की घटनाएँ हो रही हैं.

पी चिदंबरम की अमरीका यात्रा ऐसे समय हुई है, जब अमरीका भारत के साथ द्विपक्षीय संबंधों को मज़बूत करने को काफ़ी उत्सुक है.

अमरीका की विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन ने भी कुछ महीने पहले भारत की यात्रा की थी और भारत के साथ 'विशेष संबंध' क़ायम करने की इच्छा जताई थी.

पी चिदंबरम ने अपनी अमरीका यात्रा के दौरान कांग्रेस की ख़ुफ़िया समिति के प्रमुख, ख़ुफ़िया एजेंसी एफ़बीआई के अधिकारियों और न्यूयॉर्क पुलिस विभाग के अधिकारियों से भी मुलाक़ात की.

उन्होंने कहा, "इन अधिकारियों से मिलने का मक़सद ये जानना था कि कैसे ये एजेंसियाँ और विभाग 11 सितंबर की घटना के बाद अमरीका के बड़े शहरों की सुरक्षा कर रहे हैं."

पी चिदंबरम ने बताया कि अमरीकी अधिकारियों के साथ बातचीत में ख़ुफ़िया सहयोग पर भी चर्चा हुई और अमरीका की ओर से सकारात्मक जवाब मिला है.

संबंधित समाचार