भारत ने ऑस्ट्रेलिया से चिंता जताई

ऑस्ट्रेलिया में भारतीय छात्र (फ़ाइल)
Image caption ऑस्ट्रेलिया में 12 सितंबर को तीन भारतीय के साथ हिंसा हुई थी

भारतीय विदेश मंत्रालय ने ऑस्ट्रेलिया में भारतीयों के ख़िलाफ़ हाल में हुए हमलों का मामला ऑस्ट्रेलिया की सरकार के साथ उठाया है और इस पर गंभीर चिंता व्यक्त की है.

भारत ने ऑस्ट्रेलिया से अनुरोध किया है कि जल्द से जल्द अतिरिक्त क़दम उठाए जाने चाहिए ताकि भविष्य में ऐसी घटनाओं को रोका जा सके.

इस महीने 12 तारीख़ को मेलबर्न में जन्मदिवस मना रहे तीन भारतीयों के साथ हिंसा हुई जिसके बाद ऑस्ट्रेलियाई पुलिस ने चार लोगों को गिरफ़्तार किया था लेकिन फिर उन्हें रिहा कर दिया गया. लेकिन ऑस्ट्रेलियाई सरकार ने भारत सरकार को बताया है कि अभी उनसे और पूछताछ होनी है.

ग़ौरतलब है कि कई महीनों के अंतराल के बाद ऑस्ट्रेलिया में भारतीय के साथ ऐसी कोई घटना सामने आई है.

विदेश मंत्री के साथ मुद्दा उठाया

भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विष्णु प्रकाश ने पत्रकारों को बताया, "हम ऑस्ट्रेलिया में बार-बार भारतीयों पर हो रहे हमलों के बारे में चिंतित हैं. ये मामला ऑस्ट्रेलिया में हमारे उच्चायुक्त ने विदेश मंत्री स्टीफ़न स्मिथ के साथ आज केनबेरा में उठाया है जिन्होंने विक्टोरिया प्रांत के प्रधानमंत्री को पत्र भी लिखा है."

विष्णु प्रकाश का कहना था, "जहाँ हमें ऑस्ट्रेलिया की सरकार और प्रांतीय सरकारों के शीर्ष नेतृत्व की ओर से आश्वासन दिए गए हैं वहीं हमें उम्मीद है कि प्रशासन भारतीयों की सुरक्षा के लिए सभी ज़रूरी क़दम उठाएगा."

उनका यह भी कहना था कि इन घटनाओं की संवेदनशीलता से जाँच होनी चाहिए और दोषियों को सज़ा मिलनी चाहिए. उनका कहना था कि ये भी बेहतर होगा कि ऑस्ट्रेलिया घोषित क़दमों के अलावा अतिरिक्त क़दम उठाए ताकि ऐसी घटनाएँ दोबारा न हों.

उनका कहना था कि जिन लोगों को साथ मेलबर्न में घटना हुई, भारतीय अधिकारी उनके परिजनों के साथ संपर्क में हैं.विष्णु प्रकाश का कहना था कि इन लोगों में से एक सुखदीप सिंह इस हिंसा में गंभीर रूप से घायल हो गए थे.

संबंधित समाचार

संबंधित इंटरनेट लिंक

बीबीसी बाहरी इंटरनेट साइट की सामग्री के लिए ज़िम्मेदार नहीं है