विदेश दौरा नहीं करने के आदेश

सूखा
Image caption राजस्थान सूखे की चपेट में है.

सूखे और आर्थिक मंदी की दोहरी मार झेल रहे राजस्थान में सरकार ने मंत्रियों और अधिकारियों को किफ़ायत बरतने के निर्देश दिए है.

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अपने मंत्रियों और अधिकारियों की विदेश यात्राओं पर रोक लगा दी है.

विपक्षी भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने इस क़दम को महज एक दिखावा बताया है.

सरकारी निर्देशों में कहा गया है की फिजूलखर्ची से बचा जाए.

मंत्री और अधिकारी अब घरेलू विमान में भी यात्रा कम दर्जे की श्रेणी (ईकोनॉमी क्लास) में करेंगे और वो भी मुख्यमंत्री से अनुमति के बाद ही हो सकेगा.

सरकार ने कहा है कि सजावटी कार्य पर रोक रहेगी. सरकार ने हिदायत दी है कि विधायकों औरे मंत्रियों के लिए लैपटॉप,एयर कंडीशनर, मोबाइल फ़ोन जैसे उपकरण भी नहीं ख़रीदे जा सकेंगे.

केंद्र सरकार पहले ही ऐसी किफ़ायत बरतने की सीख दे चुकी है लेकिन हाल में जब केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ग़ुलाम नबी आजाद के जयपुर आगमन पर उनका सरकारी कार्यक्रम एक पाँच सितारा होटल में हुआ तो विपक्ष ने इसे मुद्दा बनाया था.

राज्य भाजपा के अध्यक्ष अरुण चतुर्वेदी कहते हैं, "किफ़ायत बरतें तो ठीक है मगर मुझे इसमें कोई गंभीरता नज़र नहीं आती."

राजस्थान के कई ज़िले गंभीर सूखे की मार झेल रहे हैं और लगभग 32 हज़ार गाँव सूखे की चपेट में है.

सरकार के लिए सूखे से पार पाना काफी मुश्किल होगा क्योंकि पूरा देश अब भी आर्थिक सुस्ती के असर से नहीं निकल सका है.

संबंधित समाचार