अभियान में सेना नहीं: चिदंबरम

  • 25 सितंबर 2009
पी चिदंबरम
Image caption चिदंबरम ने छत्तीसगढ़ और झारखंड का दौरा किया

नक्सल प्रभावित राज्यों छत्तीसगढ़ और झारखंड के दौरे पर गए गृह मंत्री पी चिदंबरम ने कहा है कि नक्सलियों के ख़िलाफ़ अभियान में सेना को शामिल करने की कोई योजना नहीं है.

हालाँकि उन्होंने यह ज़रूर स्वीकार किया कि नक्सली सरकार के सामने बड़ी चुनौती पेश कर रहे हैं.

चिदंबरम ने इस बात पर चिंता जताई कि छत्तीसगढ़ के साथ-साथ झारखंड नक्सलियों का केंद्र बन गया है.

छत्तीसगढ़ के बाद झारखंड पहुँचे पी चिदंबरम ने राँची में पत्रकारों के सवाल का जवाब देते हुए कहा, "नक्सलियों के ख़िलाफ़ कार्रवाई में सेना को शामिल करने की कोई योजना नहीं है. नकस्ली हमारे जीवन, हमारे गणराज्य और हमारे लोकतंत्र के लिए गंभीर चुनौती पेश कर रहे हैं.'

'स्पष्ट नीति'

गृह मंत्री ने कहा कि नक्सलियों के प्रति हमारी नीति बिल्कुल स्पष्ट है. सरकार के गणतांत्रिक, लोकतांत्रिक और सामाजिक स्वरूप में हिंसा और कथित हथियारबंद संघर्ष की कोई जगह नहीं है.

वे हथियारबंद संघर्ष में भरोसा करते हैं. लेकिन हम इस तर्क को नहीं मानते. अगर कोई हिंसा करता है तो सरकार को इसका विरोध करना ही होता है और उस ग्रुप से लड़ना भी होता है पी चिदंबरम

उन्होंने कहा, "वे हथियारबंद संघर्ष में भरोसा करते हैं. लेकिन हम इस तर्क को नहीं मानते. अगर कोई हिंसा करता है तो सरकार को इसका विरोध करना ही होता है और उस ग्रुप से लड़ना भी होता है."

उन्होंने कहा कि हाल ही में दिल्ली में मुख्यमंत्रियों की बैठक में केंद्र ने यह स्पष्ट कर दिया था कि उसे यह कथित हथियारबंद संघर्ष स्वीकार नहीं है और पुलिस इसके ख़िलाफ़ कार्रवाई करेगी.

इससे पहले रायपुर में गृह मंत्री ने कहा था कि केंद्र सरकार नक्सलवादियों के ख़िलाफ़ संघर्ष के लिए प्रतिबद्ध है और वह छत्तीसगढ़ सरकार को कार्रवाई में हरसंभव सहायता देगी.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार