'नक्सली हमले' में 16 लोगों की हत्या

घटनास्थल
Image caption नक्सली हमले में 16 लोगों की मौत हो गई है

बिहार के खगड़िया ज़िले के आनंदपुर मारन पंचायत के तहत अमोसी बहियार में गुरुवार रात 11 बजे 16 लोगों की हत्या कर दी गई है.

इस कथित नक्सली हमले में मारे गए लोग इचरवा गाँव के रहने वाले थे और पिछड़ी जाति के थे.

खगड़िया के पुलिस उपाधीक्षक एके पांडेय ने घटनास्थल से बीबीसी को बताया कि 16 लाशें मिल चुकी हैं.

बिहार के अतिरिक्त पुलिस प्रमुख, नीलमणि ने बीबीसी को बताया कि मरनेवालों में से 11 वयस्क और पाँच नाबालिग हैं. उन्होंने कहा कि अभी तक की जानकारी के आधार पर यह नक्सली हमला लगता है.

इस हमले में एकमात्र जीवित बचे पारो सिंह ने बीबीसी को पूरे घटनाक्रम के बारे में बताया.

चश्मदीद का बयान

"मैं और मेरा बेटा भी बंधकों में थे. मेरा बेटा इस हमले में मारा गया है और मैं बच गया हूं.

Image caption पारो सिंह ने बताया कि उनके अलावा सभी लोग मारे गए हैं

हम 17 लोग थे. हम सभी लोगों को बंधक बना लिया गया. हमलावरों की तादाद 9-10 थी.

सभी हथियारों से लैस थे. एक-एक करके हम सबको गोली मार दी गई.

चश्मदीद का बयान सुनने के लिए क्लिक करें

पहले एक गोली मुझे मारी गई पर वो गोली मुझे नहीं लगी. मुझे गोली मारते ही मैं गिर गया और अपना दम साधकर, सांस रोके पड़ा रहा. 15-20 मिनट तक मैं ऐसे पड़ा रहा जैसे बेदम हूं.

इसके बाद हमलावरों ने मुझे टटोलकर देखा कि मैं जीवित तो नहीं हूं पर उन्हें अंदाज़ा नहीं लगा कि मैं जीवित हूं. मेरे बाद बाकी लोगों को भी गोली मारकर गिरा दिया गया.

मेरा अपना बेटा भी इन लोगों के हाथों मारा गया. हमला करनेवाले नक्सली हैं."

राजनीतिक हमले

इस घटना के बाद राज्य में विपक्षी दलों ने राज्य सरकार को आड़े हाथों लेते हुए गहरा रोष व्यक्त किया है.

दो प्रमुख विपक्षी दलों के नेताओं, लालू प्रसाद और रामबिलास पासवान ने राज्य के मुख्यमंत्री के इस्तीफे तक की पेशकश इस घटना के बाद कर दी है.

विपक्षी नेताओं का कहना है कि राज्य सरकार का क़ानून व्यवस्था के मज़बूत होने और नक्सलियों के प्रभाव के कम होने के दावों की हवा निकल गई है और इस हिंसा ने सरकार की पोल खोल दी है.

उधर मुख्यमंत्री के आदेश पर राज्य के पुलिस प्रमुख घटनास्थल पर पहुँच गए हैं. साथ ही उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी ने भी प्रभावित गांव का दौरा किया है.

घटनास्थल खगड़िया ज़िले के मुरकाही थाना क्षेत्र में पड़ता है, जो खगड़िया से 10 किलोमीटर पश्चिम में स्थित है.

इसी इलाक़े में पिछले सोमवार को एक नाव दुर्घटना में 60 लोग मारे गए थे.

घटनास्थल पर पुलिस अधिकारी पहुँच गए हैं.

घटना में बच गए व्यक्ति पारो सिंह ने बताया कि हमलावर मुसहर समुदाय के लोग थे, जो नक्सली बन गए हैं.

संबंधित समाचार