आंध्र में उतरने लगा पानी

भीषण बाढ़ का सामना कर रहे आंध्र प्रदेश में एक हफ़्ते बाद बाढ़ का पानी अब उतरने लगा है.

उधर कर्नाटक में भी बारिश थमने के बाद जलस्तर नीचे उतरा है और प्रशासन का कहना है कि अब राज्य के सभी इलाक़ों से संपर्क संभव हो गया है.

ददोनों ही राज्यों में फसलों को भारी नुक़सान पहुँचा है और दोनों ही राज्यों ने केंद्र सरकार से मदद की गुहार लगाई है.

सरकारी आंकड़ों की हिसाब से आंध्र में मरने वालों की संख्या अब 63 हो गई है. लेकिन ग़ैर सरकारी सूत्रों के अनुसार मरने वालों की संख्या 200 से अधिक है.

इस बाढ़ में हज़ारों पशु भी मारे गए हैं.

हाईवे खुला

सबसे अधिक प्रभावित करनूल ज़िले में कृष्णा नदी का जल स्तर कम होने के बाद हैदराबाद-करनूल राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक सात को आवागमन के लिए खोल दिया गया है.

बीबीसी संवाददाता उमर फ़ारुक़ ने उस इलाक़े का दौरा करने के बाद कहा है कि कृष्णा नदी पर बने पुल की एक ओर के सड़क को ऊभारी क्षति पहुँची है.

उनका कहना है कि यातायात शुरु होने से ट्रकों की लंबी कतार ख़त्म होने की संभावना बढ़ी है.

लेकिन बाढ़ से राज्य में फसलों को भारी नुक़सान पहुँचा है. सरकारी आंकड़ों के अनुसार कुल सात लाख एकड़ में खड़ी फसल नष्ट हो गई है. अकेले करनूल ज़िले में 3.5 लाख एकड़ में फसल बर्बाद हो गई है.

ससबसे अधिक नुक़सान धान की फसल हो हुआ है. अधिकारियों का कहना है कि इससे कोई नौ लाख मिट्रिक टन फसल का उत्पादन कम होगा.

उधर रेलवे ने कहा है कि बाढ़ से उसे 25 करोड़ रुपयों की संपत्ति का नुक़सान हुआ है.

इस बीच राज्य सरकार ने मृतकों के परिवारजनों को दो लाख रुपए मुआवज़ा देने की घोषणा की है और केंद्र सरकार ने एक लाख रुपए देने की घोषणा की है.

कर्नाटक में भी भारी नुक़सान

उधर कर्नाटक में राज्य सरकार ने कहा है कि बाढ़ से 2500 करोड़ रुपयों की फसल का नुक़सान हुआ है.

हालांकि सरकार ने कहा है कि वह किसानों की मदद करेगी लेकिन अभी किसानों के सामने समस्या यह है कि वे नष्ट हुई फलस का ब्यौरा कैसे देंगे.

इइस बीच राज्य भर में बाढ़ का पानी धीरे-धीरे उतर रहा है और उन इलाक़ों से संपर्क स्थापित करना संभव हो गया है जो बाढ़ के कारण एकदम कट गए थे.

सरकार राहत कार्य में लगी हुई है.

अधिकारियों का कहना है कि अब बाढ़ पीड़ित इलाक़ों में बीमारी को रोकना प्राथमिकता है क्योंकि बाढ़ में मरे हज़ारों पशुओं के कारण बीमारी फैलने की आशंका बढ़ गई है.

कर्नाटक ने भी केंद्र सरकार से मदद मांगी है.

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.