भारत ने सीमापार पर उंगली उठाई

निरुपमा राव
Image caption निरुपमा ने काबुल का दौरा किया था

भारत ने कहा है कि अफ़ग़ानिस्तान में उसके दूतावास पर हुआ हमला उन लोगों का काम है, जो भारत-अफ़ग़ानिस्तान की दोस्ती को नुक़सान पहुँचाना चाहते हैं.

काबुल में भारतीय दूतावास के बाहर हुए धमाके के बाद विदेश सचिव निरुपमा राव ने अफ़ग़ानिस्तान का दौरा किया था.

शनिवार को एक बयान में उन्होंने कहा कि अफ़ग़ानिस्तान को आतंकवादियों और सीमा पार बैठे उनके आकाओं से ख़तरा है.

उन्होंने कहा कि भारत ऐसे हमलों से विचलित होने वाला नहीं है. निरुपमा राव ने अफ़ग़ानिस्तान के साथ द्विपक्षीय विकास साझेदारी और वहाँ के लोगों की मदद की भारत की प्रतिबद्धता दोहराई.

ख़तरा

उन्होंने कहा, "ये हमला स्पष्ट रूप से ऐसे लोगों का काम है, जो अफ़ग़ानिस्तान और भारत की दोस्ती को नुक़सान पहुँचाना चाहते हैं. ऐसे लोगों का मज़बूत और लोकतांत्रिक अफ़ग़ानिस्तान में विश्वास नहीं है."

निरुपमा राव ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय और अफ़ग़ानिस्तान के लोगों को ऐसे आतंकवादी हमले और सीमा पार बैठे उनके आकाओं से ख़तरा है.

अपनी अफ़ग़ानिस्तान यात्रा के दौरान निरुपमा राव ने अफ़ग़ानिस्तान के राष्ट्रपति हामिद करज़ई, विदेश मंत्री और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार से मुलाक़ात की.

संबंधित समाचार