अलग अलग जगहों पर नक्सली हमले

  • 13 अक्तूबर 2009
नक्सली
Image caption नक्सली हिंसा की घटनाएँ एकाएक बढ़ गई हैं.

बिहार और झारखंड में मंगलवार को कई जगहों पर नक्सली हिंसा और प्रदर्शन की ख़बरें आ रही हैं.

दो दिनों के बंद के दौरान नक्सलियों ने बिहार के बंशीपुर स्टेशन में सहायक स्टेशन प्रबंधक को गिरफ़्तार करने के बाद तोड़फोड़ की और आगज़नी की. इससे कई स्थानों पर दो दर्जन से अधिक ट्रेनों को रोकना पड़ा है और हज़ारों यात्री फँसे हुए हैं.

वहीं झारखंड के गिरीडीह में राष्ट्रीय राजमार्ग पर कोलकाता से अजमेर जा रही एक बस को माओवादियों ने अपना निशाना बनाया है. बस पर बम से हुए हमले में नौ लोग घायल हो गए हैं जिनमें से दो की हालत नाज़ुक है.

बीबीसी संवाददाता सलमान रावी ने बताया कि गिरीडीह की हिंसा के अलावा राज्य से माओवादियों के और हमलों और प्रदर्शन की भी ख़बरें हैं.

लातेहार में एक रेलमार्ग को निशाना बनाकर किए गए विस्फोट में एक मालगाड़ी के इंजन सहित 11 डिब्बे क्षतिग्रस्त हो गए हैं. धनबाद रेल मंडल में आने वाले इस क्षेत्र के मंडल प्रबंधक आनंदशंकर उपाध्याय ने बीबीसी को बताया कि विस्फोट काफी तगड़ा था और इससे रेलपथ को खासा नुकसान पहुँचा है. इसके कारण रेल यातायात ठप्प पड़ गया है.

राज्य के चतरा ज़िले के बांदेपुरा में एक माध्यमिक स्कूल को भी माओवादियों ने मंगलवार तड़के विस्फोट करके उड़ा दिया. उधर डाल्टनगंज और गुमला के बीच तीन मोबाइल टावरों को भी ध्वस्त करने की ख़बरें आ रही हैं.

माओवादियों ने पश्चिम बंगाल, बिहार और झारखंड में दो दिनों के बंद का आह्वान किया है. पलामू में मंगलवार को माओवादियों ने एक मशाल जुलूस भी निकाला है.

उधर बिहार के तारापुर अनुमंडल में संग्रामपुर अनुमंडल कार्यालय के दो भवनों को विस्फोट करके उड़ा दिया गया है और औरंगाबाद ज़िले में एक दूरसंचार टॉवर को उड़ाने की कोशिश की गई है.

बिहार में हमले

बीबीसी के बिहार संवाददाता मणिकांत ठाकुर के अनुसार मध्यपूर्व रेलवे के किउलझा रेलखंड के बंशीपुर रेलवे स्टेशन पर सोमवार को रात साढ़े ग्यारह बजे माओवादी पहुँचे और उन्होंने वहाँ सहायक स्टेशन प्रबंधक एके गौड़ को बंधक बना लिया.

इसके बाद उन्होंने वहाँ जमकर तोड़फोड़ की और आगज़नी की.

रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी दिलीप कुमार ने बीबीसी को बताया कि हावड़ा-दिल्ली वाया पटना मार्ग पर दो दर्जन से अधिक ट्रेनें फँसी पड़ी हैं.

इसमें मिथिला एक्सप्रेस, गंगा सागर एक्सप्रेस, पंजाब मेल, मौर्या एक्सप्रेस और दुर्ग एक्सप्रेस शामिल है. इसकी वजह से कई जगहों पर हज़ारों रेल यात्री फँसे हुए हैं. दिलीप कुमार के अनुसार बंशीपुर स्टेशन से बाक़ी स्टेशनों से संपर्क कटा हुआ है.

उनका कहना है कि सुबह तक उन्हें यह सूचना नहीं मिली कि बंशीपुर रेलवे स्टेशन पर सुरक्षाकर्मी पहुँचे हैं या नहीं.

उधर मुंगेर ज़िले के तारापुर अनुमंडल के संग्रामपुर प्रखंड आंचलिक कार्यालय में दो बड़े बम धमाके करके भवनों को ध्वस्त कर दिया है.

तारापुर के पुलिस थाना प्रभारी ने बीबीसी को फ़ोन पर बताया कि यह घटना आधी रात के बाद हुई है. औरंगाबाद में बड़की सलैया स्टेशन के पास नक्सलियों ने दूरसंचार टॉवर के जेनरेटर रूम को जला दिया और टॉवर को विस्फोट करके उड़ाने की कोशिश की.

नक्सलियों ने ज़िले में जगह-जगह पेड़ काटकर सड़कों पर गिरा दिए हैं और रास्ता रोक दिया है.

संबंधित समाचार