लुधियाना में पुलिस फ़ायरिंग

पंजाब पुलिस
Image caption पंजाब पुलिस और प्रदर्शनकारियों में झड़प हुई

पंजाब के लुधियाना शहर में शुक्रवार को हुई हिंसा के बाद शनिवार को हिंसा का नया दौर शुरू हो गया है.

दिव्य ज्योति जागरण संस्थान के आशुतोष महाराज के समागम का विरोध कर रहे कट्टरपंथी सिखों पर पुलिस फ़ायरिंग हुई है. प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक़ गोलीबारी में चार लोग मारे गए हैं.

लेकिन अधिकारी एक व्यक्ति के मारे जाने की ही पुष्टि कर रहे हैं. पुलिस फ़ायरिंग में 13 लोग घायल भी हुए हैं.

आशुतोष महाराज का दिव्य ज्योति जागरण संस्थान पंजाब में काफ़ी लोकप्रिय है और हिंदुओं के साथ-साथ सिखों में भी इसकी अच्छी-ख़ासी पैठ है.

लेकिन कट्टरपंथी सिख लुधियाना में शनिवार से शुरू होने वाले समागम का विरोध कर रहे थे.

शुक्रवार को ही आशुतोष महाराज की शोभा यात्रा होने वाली थी, लेकिन ग़ैर पंजाबी मज़दूरों के ख़िलाफ़ हुई हिंसा के कारण इसे टाल दिया गया था.

शनिवार सुबह आशुतोष महाराज का समागम शुरू हुआ. हालाँकि कट्टरपंथी सिखों ने चेतावनी दी थी कि वे ऐसा नहीं होने देंगे.

विरोध प्रदर्शन

आशुतोष महाराज का समागम शुरू होने के बाद लुधियाना के एक गुरुद्वारे में कट्टरपंथी सिख इकट्ठा हुए और इस समागम के ख़िलाफ़ विरोध प्रदर्शन करते हुए सड़कों पर उतर आए.

Image caption शुक्रवार को ग़ैर पंजाबी मज़दूरों और स्थानीय लोगों के बीच हिंसा हुई थी

ये लोग तलवारों और अन्य हथियारों से लैस थे और नारे लगा रहे थे. लुधियाना के समराला चौक पर पुलिस ने इन कट्टरपंथी सिखों को रोकने के लिए हवा में गोलियाँ चलाईं.

लेकिन जब कट्टरपंथी सिख नहीं मानें तो उन्होंने प्रदर्शनकारियों पर गोलियाँ चला दीं.

शुक्रवार को ही ग़ैर पंजाबी मज़दूरों और स्थानीय लोगों के बीच हिंसा हुई थी, जिसके कारण लुधियाना के कई थाना क्षेत्रों में आंशिक कर्फ़्यू लगाया गया है.

जानकार शुक्रवार की घटना को भी ताज़ा हिंसा से जोड़कर देख रहे हैं क्योंकि आशुतोष महाराज बिहार के हैं और वे राजनीतिक रूप से भी दबंग माने जाते हैं.हालाँकि पंजाब में उनके अनुयायी हिंदू भी हैं और सिख भी.

संबंधित समाचार