स्वयंसेवक यौनकर्मियों से शादी करेंगे

गुरुमीत राम रहीम
Image caption गुरुमीत राम रहीम का डेरा सच्चा सौदा पहले भी चर्चा में रह चुका है

डेरा सच्चा सौदा का कहना है कि उसके स्वयंसेवक यौनकर्मियों के साथ शादी करेंगे.

डेरा सच्चा सौदा ने करीब एक पखवाड़े पहले प्रतिज्ञा की थी कि वो समाज में दुत्कारी हुई इन महिलाओं के उत्थान के लिए काम करेंगे.

यौनकर्मियों से शादी करने की ये पहल उसी दिशा में उठाया गया कदम है.

डेरा सच्चा सौदा के बारे में कहा जाता है कि वो विवादों और सुर्ख़ियों में रहता ही है. अब यौनकर्मियों से शादी करने की बात से वो एक बार फिर ध्यान आकर्षित कर रहा है.

इससे पहले डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख गुरुमीत राम रहीम सिंह के सिख गुरु गोविंदसिंह की तरह की वेशभूषा पहनने को लेकर विवाद उठा था. इसे लेकर सिखों और डेरा के समर्थकों को बीच झड़पें भी हुई थीं और पंजाब के कई इलाक़ों में तनाव फैल गया था.

क्या है डेरा सच्चा सौदा...?

डेरा सच्चा सौदा पंजाब के और हरियाणा के सबसे बड़े डेरों में से एक माना जाता है. यह एक धार्मिक-सामाजिक मान्यता का पंथ है जिससे अधिकतर पंजाब और हरियाणा के दलित समुदाय के लोग जुड़े हैं.

पिछड़ों और उपेक्षित वर्गों के बाहुल्य वाले इस डेरे का केंद्र हरियाणा का सिरसा ज़िला है. गुरू राम रहीम इसके प्रमुख हैं. डेरा खुद को सिखों और हिंदुओं से अलग पंथ के रूप में लोगों के सामने रखता है.

समाज सुधार की कोशिश

डेरा सच्चा सौदा के प्रवक्ता और पेशे से आँखों के डॉक्टर, डॉक्टर आदित्य इंसान का कहना है कि समाज में इन महिलाओं के लिए कोई जगह नहीं है और उन्हें उनके इज्ज़त का स्थान मिले, यही इनकी कोशिश है.

डॉक्टर आदित्य इंसान का कहना है कि " यौन कर्मियों की ज़िंदगी ऐसी है कि उसमें एंट्री पॉइंट तो है लेकिन एक्सिट पॉइंट नहीं. और इन महिलाओं के लिए ये स्वयंसेवक यही एंट्री पॉइंट देना चाहते हैं."

डेरा सच्चा सौदा के मुताबिक उनके क़रीब 1200 स्वयंसेवक ऐसी लड़कियों से शादी करेंगे जो यौन कर्मियों के तौर पर काम कर रही हैं और जो ये काम छोड़ना चाहती हैं.

ऐसे ही एक स्वयंसेवक हैं आशीष इंसान जिनका कहना है कि "हमने ये फैसला पूरी तरह सोच समझ कर लिया है. समाज ही इन महिलाओं की बदहाली के लिए ज़िम्मेदार है और अगर समाज अब भी अपने में सुधार नहीं लाना चाहता तो हमें इसकी परवाह नहीं."

सेंटर फॉर सोशल रिसर्च की रंजना कुमारी जानी मानी समाजशास्त्री हैं और महिला हक़ के मामलों में ख़ासकर मुखर भी रहती हैं.

उनका कहना है, "यौनकर्मियों से शादी की बात में अगर ईमानदारी है, तब तो बात अच्छी है, लेकिन अगर ये महज़ प्रचार है, तो फिर ये उन महिलाओं के साथ बेईमानी होगी."

डेरा सच्चा सौदा के इस प्रस्ताव पर यौनकर्मियों का रुख़ क्या होगा, वही इसकी सफलता को तय करेगा.

संबंधित समाचार