छेड़छाड़ मामले में सज़ा

  • 21 दिसंबर 2009
लड़की (फाइल फोटो)
Image caption न्याय की उम्मीद न रहने पर रुचिका ने आत्महत्या कर ली थी.

हरियाणा के पूर्व पुलिस महानिदेशक को एक टेनिस खिलाड़ी रुचिका के साथ छह महीने तक छेड़छाड़ करने के मामले में छह महीने की सज़ा सुनाई गई है.

यह मामला 19 साल पुराना है. रुचिका का मामला अदालत पहुंचा था. मामले की तीन साल बाद 1993 में सुनवाई के बाद जब रुचिका को न्याय की आस नहीं रही तो रुचिका ने आत्महत्या कर ली थी.

आरोपों के अनुसार पूर्व पुलिस महानिदेशक एसपीएस राठौड़ ने रुचिका के साथ लगातार छह महीने तक छेड़छाड़ की थी.

सीबीआई की अदालत ने सोमवार को इस मामले में एसपीएस राठौड़ को छह महीने क़ैद की सज़ा सुनाई है.

राठौड़ की पत्नी ने सज़ा सुनाए जाने के दौरान मीडियाकर्मियों की कोर्टरुम में मौजूदगी पर आपत्ति जताई थी लेकिन कोर्ट ने मीडियाकर्मियों की मौजूदगी में ही सज़ा सुनाई.

सज़ा सुनाए जाने के दौरान राठौड़ कोर्ट में मौजूद नहीं थे. उन्होंने दिल के आपरेशन का हवाला देते हुए कोर्ट में उपस्थित नहीं होने की अर्ज़ी दी थी.

राठौड़ का मामला उनकी पत्नी लड़ रही थीं जो वकील रही हैं. उनका कहना था कि राठौड़ को उम्र और ख़राब स्वास्थ्य के आधार पर सज़ा में थोड़ी राहत मिलनी चाहिए.

संबंधित समाचार