मणिपुर में नौ विद्रोही मारे गए

मणिपुर में तैनात सेना के जवान (फ़ाइल फ़ोटो)
Image caption कई अलगाववादी संगठन मणिपुर की स्वतंत्रता के लिए हिंसक लड़ाई लड़ रहे हैं.

भारतीय सेना ने कहा है कि उत्तर-पूर्वी राज्य मणिपुर मे हुई तीन अलग-अलग मुठभेड़ों में नौ अलगाववादी विद्रोही मारे गए हैं.

सेना के मुताबिक़ इन मुठभेडों में मारे गए विद्रोही अलग-अलग संगठनों से संबंधित थे.

मारे गए विद्रोहियों में से छह पीपल्स रिवोल्युशनरी पार्टी ऑफ़ कांगलिपाक (पीआरईपीएके) और तीन कांग्ली याना कन लुप (केवाईकेएल) के सदस्य थे.

मणिपुर में दर्जनों अलगाववादी संगठन काम कर रहे हैं. इनमें से कुछ मणिपुर की भारत से आज़ादी के लिए लड़ रहे हैं.

स्वतंत्रता की लड़ाई

वहीं कुछ संगठन मणिपुर का बंटवारा कर आदिवासियों के लिए अलग राज्य बनाने की लड़ाई लड़ रहे हैं.

अधिकारियों ने बताया कि सेना ने राज्य के पूर्वी ज़िले चंदेल के शिंगेहु और लैबोलडुंग गाँव में पीआरईपीएके के दो गुप्त ठिकानों पर छापा मारा.

सेना के प्रवक्ता आरके पाल्टा ने कहा, ''देर रात में पीआरईपीएके के गुप्त ठिकानों को घेरने के बाद सेना से सुबह वहाँ हमला किया.इस हमले में कई विद्रोही मारे गए.''

उन्होंने बताया कि सेना कि एक दूसरी टुकड़ी ने इसी तरह का हमला थाउबल के चिरिकुनाओं गाँव में केवाईकेएल के ठिकाने पर किया.

सेना का कहना है कि सैन्य टुकड़ियाँ मुठभेड़ में जिंदा बच गए विद्रोहियों की तलाश इन इलाक़ों में तलाशी अभियान चला रही हैं.

प्रवक्ता ने बताया कि मुठभेड़ स्थल से बड़ी मात्रा में हथियार और गोला-बारुद बरामद किया गया है.

संबंधित समाचार