दौसा बलात्कार मामले में नया मोड़

पत्रकारों से बातचीत करते किरोड़ीलाल मीणा
Image caption राजस्थान के एक पुलिस अधिकारी पर अपने अर्दली की पत्नी के यौन शोषण का आरोप है.

चंडीगढ़ की रुचिका गिरहोत्रा मामले के सुर्खियों में आने के बाद राजस्थान में 13 साल पुराना कथित बलात्कार और यौन शोषण का एक मामला तूल पकड़ता जा रहा है.

दौसा के सांसद किरोड़ीलाल मीणा मंगलवार को टंडन पर बलात्कार और यौन शोषण का आरोप लगाने वाली महिला के साथ जयपुर में मुख्यमंत्री से मिलना चाहते थे. मगर वहाँ उनकी सुरक्षा कर्मचारियो से तकरार हो गई.

इसके बाद मीणा वहीं धरने पर बैठ गए. बाद में उन्होंने उसे बेमियादी धरने में बदल दिया.पुलिस ने मंगलवार देर रात उन्हें हिरासत में ले लिया.

मीणा को अजमेर में रखा गया है. इससे उनके समर्थक भड़क गए और दौसा के पास जयपुर-आगरा राजमार्ग पर जाम लगा दिया और वाहनों में तोड़फोड़ की.

कथित बलात्कार मामले में राजस्थान पुलिस के एक तत्कालीन पुलिस महानिरीक्षक मधुकर टंडन वांछित है.

वहीं राज्य के गृहमंत्री शांति धारीवाल ने पुलिस से मधुकर टंडन की गिरफ़्तारी में हो रही देरी पर जवाब मांगा है.

बलात्कार के आरोप में टंडन को पहले निलंबित किया गया था. बाद में उन्हें बर्खास्त कर दिया गया.

टंडन पर आरोप है कि उन्होंने नौकरी में रहते हुए अपने अर्दली की पत्नी का दिल्ली के निकट नोएडा के अपने घर में यौन शोषण और बलात्कार किया था. आरोप लगाने वाली महिला आदिवासी मीणा समाज की है.

लापरवाह पुलिस

पुलिस ने इस महिला की शिकायत पर 1997 के फ़रवरी महीने में टंडन के खिलाफ़ मामला दर्ज कर उन्हें गिरफ़्तार कर लिया और दौसा की एक अदालत में पेश किया. इसके बाद पुलिस अपना काम भूल गई.

टंडन के खिलाफ़ अदालत ने स्थाई वारंट जारी किया हुआ है.

राज्य के गृहमंत्री धारीवाल ने बताया, ''मैंने अधिकारियो से जवाब-तलब किया है. आख़िर देरी क्यों हुई? किसी न किसी ने इसमें लापरवाही बरती है? सरकार ऐसे सवंदेनशील मामले में यह सुनिश्चित करेगी कि पीड़ित महिला को इंसाफ़ मिले.

महिला के पति ने बताया कि उस पर बड़ा दबाव डाला गया कि वह मामला वापस ले. इसके बाद उसे नौकरी छोडनी पड़ी. उन्होंने कहा कि रुचिका मामला सामने आने के बाद उन्हें इंसाफ़ की उम्मीद जगी है.

किरोड़ीलाल मीणा भाजपा सरकार में मंत्री थे, उन्होंने बताया कि उस समय भी उन्होंने यह मामला उठाया था लेकिन उनकी बात पर किसी ने ध्यान नहीं दिया.

वह कहते हैं, ''मुझे लगता है राजनीति और अफ़सरशाही का गठजोड़ ऐसे लोगों को बचाता है.

मीणा की पत्नी गोलमा देवी राज्य की कांग्रेस सरकार में मंत्री हैं.मीणा कहते हैं कि वे इस लड़ाई को अंजाम तक पहुचाएँगे. वहीं इस मामले ने राज्य की कांग्रेस सरकार के लिए मुश्किलें खड़ी कर दी हैं.

संबंधित समाचार