नौका डूबने से 19 की मौत की आशंका

  • 4 जनवरी 2010
नाव (फ़ाइल फ़ोटो)
Image caption जाड़े के दिनों में लोग कोलाघाट के नज़दीक पिकनिक मनाने जाते हैं

पश्चिम बंगाल के रूपनारायण नदी में एक नाव डूब गई है और इस पर कई लोगों में से 19 लोगों का पता नहीं चल पाया है.

बचाव के लिए गोताखोरों और राहतकर्मियों की मदद ली जा रही है लेकिन घटना में किसी के बचने की उम्मीद कम ही है.

पुलिस का कहना है कि रविवार को पश्चिम बंगाल के कोलाघाट शहर के नज़दीक पिकनिक मनाने गए लोगों को ले जा रहा एक नाव डूब गया था.

जाड़े के दिनों में आम तौर पर लोग कोलाघाट के नज़दीक पिकनिक मनाने जाते हैं.

बचाव काम में लगे एक गोताखोर फालगुनी मंडल ने बीबीसी को बताया, "नाव से गिरने वालों के जीवित बचे रहने की बेहद कम संभावना रह गई है. पिछली शाम से ही हमारी तमाम कोशिशों के बावजूद हम तेज़ धार वाली इस नदी से किसी को नहीं निकाल पाए हैं."

लापता लोग कोलकाता के उलटाडांगा इलाक़े के एक चर्चित स्पोर्टस कल्ब से ताल्लुक रखते हैं. रविवार की दोपहर इस क्लब के 62 लोग कोलाघाट पहुँचे थे.

'सुरक्षा का पुख्ता इंतजाम नहीं'

पुलिस का कहना है कि इनमें कुछ लोगों ने कोलाघाट में ही रहने का निश्चय किया जबकि कुछ ने नाव में घूमने का निश्चय किया.

स्थानीय पुलिसकर्मी राहुल सरकार का कहना है, "उन लोगों ने दो नाव किराए पर लिए, लेकिन उस पर कई लोग सवार हो गए."

रूपनारायण नदी की लहरों में फँस कर एक नाव डूब गया. इस नाव पर 29 लोग सवार थे, जबकि सिर्फ़ 12 लोग ही इस पर आराम से सवारी कर सकते थे.

पिकनिक मनाने गए अन्य लोग और स्थानीय लोगों ने मोटरबोट और मछली पकड़ने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली पारंपरिक नाव की सहायता से 10 लोगों को बचाया जबकि कम से कम 19 लोग लापता हैं. उनके जीवित होने की संभावना बेहद क्षीण है.

इस क्षेत्र के पूर्व विधायक असित दास ने इस दुर्घटना का दोष स्थानीय प्रशासन पर मढ़ा है. दास ने बताया, "रूपनारायण एक ख़तरनाक नदी है. इसमें ऊँची लहरें उठा करती हैं. जब तक हम नाव की सुरक्षा के बारे में निश्चिंत नहीं हो जाते लोगों को नाव पर सवार होने की इजाज़त नहीं दे सकते."

उनका कहना है कि जाड़े के दिनों में इस जगह का इस्तेमान पिकनिक मनाने के लिए किया जाने लगा है लेकिन प्रशासन ने 'सुरक्षा का पुख़्ता इंतजाम' नहीं किया था.

संबंधित समाचार