आरुषि के माता-पिता की नार्को जाँच

आरुषि
Image caption आरुषि हत्याकांड के मामले में सीबीआई को भी कोई सुराग नहीं मिल सका है

आरुषि तलवार हत्याकांड मामले में एक नया मोड़ उस वक्त आया जब एक विशेष न्यायालय ने जाँच एजेंसी सीबीआई को आरुषि के पिता राजेश तलवार और माँ नुपुर के नार्को टेस्ट की इजाज़त दे दी.

करीब दो वर्ष पहले 14 वर्षीय आरुषि की नोएडा स्थित उसके घर में हत्या कर दी गई थी. हत्या की जाँच के लिए बनी सीबीआई की एक नई टीम ने दिसंबर 21 को नार्को टेस्ट के लिए अनुरोध किया था.

विशेष न्यायिक दंडाधिकारी प्रीति सिंह ने अनुरोध को स्वीकार तो कर लिया लेकिन उन्होंने सीबीआई से कहा कि डॉक्टर राजेश तलवार का टेस्ट करने से पहले उनकी पूरी मेडिकल जाँच की जाए क्योंकि डॉक्टर तलवार अस्थमा के मरीज़ हैं.

करीब 20 महीने पहले सीबीआई डॉक्टर तलवार और उनकी पत्नी नुपुर को जाँच के बाद क्लीन चिट दे चुकी है.

नार्को टेस्ट करने की ज़िम्मेदारी गुजरात के गाँधीनगर स्थित डॉयरेक्टोरेट ऑफ़ फ़ोरेंसिक साइंसेज़ लैबोरेटरी को सौंपी गई है.

23 मई 2009 को नोएडा पुलिस ने डीपीएस नोएडा की कक्षा 9 की छात्रा नुपुर और उसके घर में काम करने वाले हेमराज की हत्या के मामले में राजेश तलवार को गिरफ़्तार किया था. जुलाई को केस सीबीआई को सौंप दिया गया.

उस वक्त के सीबीआई प्रमुख अरुण कुमार ने कहा था कि तलवार दंपत्ति के खिलाफ़ कोई सुबूत नहीं है और उनके नार्को टेस्ट की कोई ज़रूरत नहीं है. उसके बाद राजेश तलवार को छोड़ दिया गया.

लेकिन दोबारा गठित हुई सीबीआई टीम के प्रमुख संयुक्त निदेशक जावेद अहमद और विशेष निदेशक एससी सिन्हा का मानना है कि तलवार दंपत्ति के ऊपर अगर नार्को टेस्ट किया जाता है तो कुछ और जानकारी हासिल हो सकती है.

हालाँकि जब ये फ़ैसला सुनाया गया तो न्यायालय वकीलों और पत्रकारों से भरा हुआ था. तलवार दंपत्ति उस वक्त वहाँ मौजूद नहीं थे.

संबंधित समाचार