'फ़र्ज़ी मुठभेड़' के आरोप में गिरफ़्तार

प्रदीप शर्मा
Image caption प्रदीप शर्मा ने आरोपों को ग़लत बताया है

मुंबई में एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी प्रदीप शर्मा को एक कथित गिरोहबाज़ को मारने के आरोप में गिरफ़्तार किया गया है.

मारे गए व्यक्ति के भाई ने याचिका दायर की थी कि प्रदीप शर्मा की टीम ने उसके भाई को फ़र्ज़ी मुठभेड़ में मार दिया था.

मानवाधिकार संगठन फ़र्ज़ी मुठभेड़ को लेकर चिंता ज़ाहिर करते रहे हैं और सुरक्षा बलों पर आरोप लगाए जाते रहे हैं कि वे अनावश्यक रुप से लोगों को मारते रहे हैं.

प्रदीप शर्मा ने अपने ऊपर लगाए गए आरोपों को ग़लत ठहराया है.

प्रदीप शर्मा को मीडिया में 'एनकाउंटर स्पेशलिस्ट' यानी मुठभेड़ विशेषज्ञ कहा जाता रहा है.

'एनकाउंटर' शब्द उस समय अधिक प्रचलित हुआ जब पुलिस ने अपराधियों से निपटने के लिए सख़्ती बरतनी शुरु की थी.

शुक्रवार को प्रदीप शर्मा और दो सिपाहियों को गिरफ़्तार किया गया.

उन पर वर्ष 2006 में एक व्यक्ति के अपहरण और फिर कथित मुठभेड़ में मारने का आरोप है. यह व्यक्ति कथित रुप से छोटा राजन गिरोह का सदस्य था.

उसके भाई ने हाईकोर्ट में याचिका दायर करके कहा था कि उसे मारे जाने के सात घंटे पहले पुलिस घर से पकड़ कर ले गई थी.

संबंधित समाचार