भारत-पाक नियंत्रण रेखा पर गोलीबारी

  • 20 जनवरी 2010
नियंत्रण रेखा पर भारतीय सैनिक
Image caption भारत और पाकिस्तान दोनों ही एक दूसरे पर बिना कारण फ़ायरिंग शुरु करने का आरोप लगा रहे हैं

भारत प्रशासित जम्मू-कश्मीर के पुंछ ज़िले और पाकिस्तान प्रशासित कश्मीर के रावलाकोट सैक्टर में भारत और पाकिस्तान के बीच पड़ती नियंत्रण रेखा के दोनों ओर गोलीबारी हुई है. ये इलाक़ा जम्मू से लगभग 250 किलोमीटर दूर पश्चिमोत्तर में स्थित है.

जम्मू से बीबीसी संवाददाता बीनू जोशी ने भारतीय सेना के अधिकारियों के हवाले से बताया है कि भारतीय समयानुसार सोमवार रात से ही भारत प्रशासित जम्मू-कश्मीर के पुंछ ज़िले में नियंत्रण रेखा पर भारतीय और पाकिस्तानी सेना की ओर से कई जगहों पर गोलीबारी चल रही है.

भारतीय सेना के अधिकारियों ने इसे नवंबर 2003 में दोनों पक्षों के बीच सीमा और नियंत्रण रेखा पर संघर्षविराम बनाए रखने के समझौते का उल्लंघन बताया है.

दूसरी ओर इस्लामबाद स्थित बीबीसी संवाददाता हफ़ीज़ चाचड़ के अनुसार पाकिस्तान की सेना ने आरोप लगाया है कि भारतीय सेना की तरफ़ से पर बिना किसी कारण फ़ायरिंग हुई है.

हफ़ीज़ चाचड़ के अनुसार पाकिस्तानी सेना के प्रवक्ता मेजर जनरल अथर अब्बास ने एक बयान में कहा है, "पाकिस्तान की तरफ़ रावलाकोट सैक्टर में भारत की ओर से बिना उकसाए फ़ायरिंग हुई है जिसमें सेना का एक जवान मारा गया है और एक घायल है. हमने इस घटना पर अपना विरोध दर्ज कराया है और इस मुद्दे पर फ़्लैग मीटिंग बुलाए जाने का अनुरोध किया है."

'मशीन-गनों, रॉकेटों का इस्तेमाल'

जम्मू स्थित बीबीसी संवाददाता बीनू जोशी के अनुसार भारतीय सेना के अधिकारियों का कहना है कि नियंत्रण रेखा पर काडू और क्रांति सीमा चौंकियों पर सोमवार रात एक घंटा गोलीबारी हुई.

भारतीय सैन्य अधिकारियों का कहना है, "भारतीय सेना ने मशीन-गनों से गोलीबारी का जवाब दिया है और राकेट भी दागे हैं. मंगलवार दोपहर से पुंछ के सब्ज़ियां सैक्टर में बिना कारण पाकिस्तानी सेना ने मशीन गनों और रॉकेटों से गोलीबारी की जो दिन के दौरान और तेज़ हो गई."

एक भारतीय सैन्य अधिकारी का कहना था, "ये स्पष्ट नहीं है कि इस फ़ायरिंग का क्या कारण है. लेकिन इस मुद्दे को पूरी गंभीरता से पाकिस्तानी पक्ष के साथ उठाया जाएगा."

बीनू जोशी के मुताबिक इस फ़ायरिंग में भारतीय सेना की ओर से न तो कोई मारा गया है और न ही कोई घायल हुआ है.

उनके अनुसार भारत प्रशासित जम्मू क्षेत्र के 220 किलोमीटर लंबी अंतरराष्ट्रीय सीमा और जम्मू से कश्मीर घाटी तक 720 किलोमीटर लंबी नियंत्रण रेखा पर हाल में फ़ायरिंग और कथित घुसपैठ की घटनाएँ बढ़ गई हैं.

ग़ौरतलब है कि भारत के गणतंत्र दिवस 26 जनवरी से पहले इस क्षेत्र में भारतीय सेना ने सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी है. हाल में भारत के रक्षा मंत्री एके एंटनी ने भारतीय सेनाओं की संयुक्त कमान की बैठक की थी और पूरे जम्मू-कश्मीर राज्य में सुरक्षा व्यवस्था पर पुनर्विचार किया गया था.

संबंधित समाचार