तेलंगाना बंद के दौरान हिंसा

फ़ाइल फ़ोटो
Image caption तेलंगाना को लेकर छात्र आंदोलन छेड़े हुए हैं

आंध्र प्रदेश के उस्मानिया विश्वविद्यालय के एक छात्र के पृथक तेलंगाना की मांग को लेकर आत्मदाह करने के बाद तेलंगाना छात्र संघर्ष समिति ने बुधवार को बंद का आह्वान किया था. इस दौरान छात्रों और पुलिस में हिंसक झड़प हुई है.

इसमें छह छात्र और और एक पुलिसकर्मी घायल हो गया है.

इसका असर हैदराबाद सहित 10 ज़िलों में साफ़ नज़र आ रहा है.

बंद को देखते हुए राज्य परिवहन ने अपनी चार हज़ार बसों का परिचालन बंद कर दिया है.

उस्मानिया विश्वविद्यालय के छात्र वेणुगोपाल रेड्डी ने मंगलवार को आत्मदाह कर लिया था.

उनके अलावा तेलंगाना इलाक़े के दो और लोगों ने भी इस मुद्दे को लेकर आत्महत्या कर ली थी.

तीखी प्रतिक्रिया

माना जा रहा है कि इन घटनाओं से एक बार फिर तेलंगाना आंदोलन भड़क सकता है.

इस बंद को तेलंगाना सर्वदलीय समिति ने भी समर्थन दिया है.

दूसरी ओर उस्मानिया विश्वविद्यालय के छात्र शव को लेकर धरने पर बैठे थे, बाद में पुलिस ने उसे अपने कब्ज़े में लेकर उसे उसके घरवालों को सौंप दिया है.

इधर मंगलवार को तेलंगाना राष्ट्र समिति के विधायकों ने स्पीकर किरण कुमार रेड्डी के सामने अपना इस्तीफ़ा स्वीकार करने के लिए प्रदर्शन किया.

तेलंगाना राष्ट्र समिति के नेता हरीश राव का दावा है कि पृथक तेलंगाना को लेकर अब तक कई लोगों ने आत्महत्या की है.

उनका कहना है कि पृथक तेलंगाना को लेकर केंद्र सरकार के कोई निर्णय न लेने से हताश होकर लोगों ने अपनी जानें दीं.

संबंधित समाचार