माओवादियों के ख़िलाफ़ अभियान

  • 22 जनवरी 2010
माओवादी
Image caption चिदंबरम माओवादियों के ख़िलाफ़ कार्रवाई पर शुक्रवार को अहम बैठक कर रहे हैं.

पाँच भारतीय राज्यों में माओवादी विद्रोहियों के ख़िलाफ़ अभियान तेज़ कर दिया गया है.

केंद्रीय गृह मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बीबीसी को बताया कि ख़ास तौर पर माओवादियों के वरिष्ठ नेताओं को निशाना बनाया जा रहा है.

उनका कहना था, "कार्रवाई शुरु हो गई है. केंद्र सरकार राज्यों के साथ समन्वय बनाने की कोशिश कर रही है क्योंकि क़ानून और व्यवस्था राज्य सूची का विषय है."

वो कहते हैं, "हम उन्हें नेतृत्वविहीन करना चाहते हैं, इसलिए उनके नेता निशाने पर हैं. हम श्रीलंका की तरह कोई खुली लड़ाई शुरु नहीं करना चाहते क्योंकि इसमें जान-माल की ज़्यादा क्षति का डर होता है. इसलिए गोपनीय सूचना के आधार पर लक्ष्य निर्धारित करके विशेष कार्रवाई हो रही है."

गृह मंत्रालय के अधिकारी का कहना है कि हर राज्य इसमें मदद कर रहा है.

पश्चिम बंगाल में इसी तरह की कार्रवाई में सुरक्षा बल माओवादी नेता किशनजी के नज़दीक पहुँच गए थे, हालांकि वो भागने में सफल हो गए.

चिदंबरम की कोशिश

केंद्रीय गृह मंत्री पी चिदंबरम ख़ुद पश्चिम बंगाल, झारखंड, उड़ीसा, छत्तीसगढ़ और महाराष्ट्र में माओवादियों के ख़िलाफ़ कार्रवाई पर निगाह रखे हुए हैं.

पिछले हफ़्ते पश्चिम बंगाल का दौरा करने के बाद उन्होंने शुक्रवार को रायपुर में छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र और झारखंड के अधिकारियों की बैठक बुलाई है.

झारखंड के मुख्यमंत्री शिबू सोरेन ने कहा है कि चिन्हित किए जाने के बाद ही माओवादियों के ख़िलाफ़ कार्रवाई होनी चाहिए. उन्होंने राज्य सरकार की अनुमति के बिना किसी तरह की कार्रवाई शुरू करने पर भी आपत्ति जताई थी.

केंद्रीय गृह मंत्रालय के अधिकारी का कहना है कि सोरेन के बयान से भ्रम पैदा हो गया है.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार