बढ़ती क़ीमतों पर भाजपा का आंदोलन

  • 24 जनवरी 2010
सुषमा स्वराज
Image caption सुषमा स्वराज हाल ही में लोकसभा में विपक्ष की नेता बनी हैं

भारतीय जनता पार्टी आवश्यक वस्तुओं के बढ़ते दाम के विरोध में एक फरवरी से राष्ट्रव्यापी आंदोलन करेगी.

शनिवार को इसकी घोषणा लोकसभा में विपक्ष की नेता सुषमा स्वराज ने हैदराबाद में की.

हैदराबाद में एक संवाददाता सम्मलेन को संबोधित करते हुए सुषमा स्वराज ने आवश्यक वस्तुओं के बढ़ते दाम के लिए केंद्र सरकार की ग़लत नीतियों को ज़िम्मेदार ठहराया.

भाजपा नेता सुषमा स्वराज ने कहा कि उनकी पार्टी बढ़ी हुई महंगाई का ये मुद्दा संसद के अंदर और उसके बाहर दोनों ही जगह उठाएगी.

सुषमा स्वराज का कहना था कि जनता ने उन्हें सरकार पर नज़र रखने की ज़िम्मेदारी दी है और उनकी पार्टी अपनी ये भूमिका बखूबी निभाएगी.

आंदोलन

सुषमा स्वराज ने कहा, "आवश्यक वस्तुओं के बढ़ते दामों में कमी ला पाने में सरकार विफल रही है और इसके विरोध में एक फरवरी से हम एक पखवाड़े तक राष्ट्रव्यापी आंदोलन चलाएंगे."

भाजपा की वरिष्ठ नेता सुषमा स्वराज ने केंद्रीय कृषि मंत्री शरद पवार की उस टिपण्णी को " गैरज़िम्मेदार" बताया जिसमें उन्होंने कहा था कि वो इसकी भविष्यवाणी नहीं कर सकते कि चीनी के दाम कब कम होंगे.

सुषमा स्वराज ने कहा कि ये इस सरकार की ग़लत नीतियों का परिणाम ही है कि खाद्य पदार्थों के दाम आसमान छूने लगे हैं.

सुषमा स्वराज का कहना था कि वो ये जानना चाहती हैं कि यूपीए सरकार ने चीज़ों के बढ़ते दाम को रोकने के लिए क्या काम किया है.

भारत सरकार में पहले केंद्रीय मंत्री रह चुकीं सुषमा स्वराज का कहना था कि दाल और चीनी जैसी आम आदमी की ज़रूरत की चीज़ें भी इतनी महंगी हो गई हैं और सरकार उसे रोक पाने में पूरी तरह से विफल रही है.

संबंधित समाचार