बिहार जेडीयू अध्यक्ष ने इस्तीफ़ा दिया

नीतीश कुमार
Image caption ललन सिंह कभी नीतीश के दाहिने हाथ माने जाते थे.

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के निकट सहयोगी रहे जनता दल युनाइटेड (जेडीयू) नेता राजीव रंजन उर्फ़ ललन सिंह ने पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष पद से इस्तीफ़ा दे दिया है.

उन्होंने सोमवार को नई दिल्ली में पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष शरद यादव से मुलाक़ात की और उन्हें अपना इस्तीफ़ा सौंप दिया.

इस्तीफ़ा देने के बाद उन्होंने पत्रकारों से कहा, "मैं इस्तीफ़ा वापस नहीं लूंगा. मैंने अपील की है कि मेरा इस्तीफ़ा तत्काल प्रभाव से स्वीकार कर लिया जाए. हालाँकि वो मुझसे दस दिनों का समय माँग रहे थे."

ललन सिंह ने कहा कि उन्होंने राष्ट्रीय अध्यक्ष के सामने कई मुद्दे उठाए हैं जिनका समाधान ज़रूरी है.

उनका कहना था, "पार्टी में आंतरिक लोकतंत्र की बहाली होनी चाहिए और फ़ैसले सामूहिक नेतृत्व से होने चाहिए. ये सब काम मेरे इस्तीफ़ा देने के बाद हो सकता है."

कद्दावर नेता

ललन सिंह बिहार के कद्दावर नेताओं में से एक हैं और जेडीयू में वे अगड़ी जातियों के प्रतिनिधि माने जाते हैं.

कुछ समय पहले तक ललन सिंह को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का दाहिना हाथ माना जाता था लेकिन सरकारी फ़ैसलों में उनकी भूमिका घटने के बाद वे नाराज़ हो गए.

हाल ही में नीतीश कुमार ने उपेंद्र कुशवाहा को पार्टी में शामिल किया. कहा जा रहा है कि ललन सिंह की आपत्ति के बावजूद पार्टी में उनकी वापसी हुई है.

बिहार में इसी साल आख़िर में विधानसभा चुनाव होने हैं और ऐसे में सत्तारुढ़ पार्टी में मतभेद से जेडीयू को नुकसान उठाना पड़ सकता है.

पहले ऐसी चर्चा थी कि ललन सिंह के साथ लगभग दस सांसद भी शरद यादव से मिलेंगे लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ.

संबंधित समाचार