अपहरण और हत्या की दोहरी त्रासदी

वैष्णवी
Image caption नौ वर्षीय वैष्णवी की बर्बर हत्या कर दी गई थी

आंध्रप्रदेश के विजयवाड़ा नगर में बेटी के अपहरण और उसकी बर्बर हत्या के तुरंत बाद पिता की भी अचानक मौत की दोहरी त्रासदी ने पूरे शहर को शोक में डुबो दिया है.

नौ वर्षीय वैष्णवी का कुछ अज्ञात व्यक्तियों ने चार दिन पहले विजयवाड़ा में उस समय अपहरण कर लिया था, जब वह अपने भाई के साथ कार में स्कूल जा रही थी.

अपहरणकर्ताओं ने कार के ड्राइवर की हत्या कर दी, लेकिन वैष्णवी का भाई हमलावरों के चंगुल से भाग निकलने में सफल रहा.

पुलिस का कहना है कि वैष्णवी के पिता पी प्रभाकर राव ने जैसे ही यह समाचार टीवी पर देखा कि वैष्णवी की हत्या कर दी गई है और उस के शव को हत्यारों ने एक फैक्ट्री के बॉयलर में जला दिया है, वह बेहोश होकर गिर पड़े.

उन्हें तुरंत विजयवाडा के एक अस्पताल ले जाया गया. डॉक्टरों का कहना है कि उन्हें एक के बाद एक दो बार दिल का दौरा पड़ा और ब्लड प्रेशर कम हो जाने के कारण उन की मौत हो गई. वैष्णवी की माँ नर्मदा अभी सदमे से बाहर नहीं आ सकी हैं.

प्रभाकर राव शराब के एक बड़े व्यापारी होने के अलावा सत्तारूढ़ कांग्रेस के एक नेता भी थे.

कार्रवाई की माँग

इस दोहरी त्रासदी पर विजयवाड़ा नगर में शोक की लहर दौड़ गई और लोगों ने अपना दुख प्रकट करते हुए बंद मनाया और हत्यारों के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की मांग की.

विजयवाड़ा पुलिस के आयुक्त राजेंद्र नाथ रेड्डी ने अपराध की वजह परिवार के अंदर पुरानी दुश्मनी और संपत्ति का विवाद बताया है.

पुलिस के मुताबिक मुख्य संदिग्ध प्रभाकर राव की पहली पत्नी का भाई वेंकट राव गौड़ है.

पुलिस ने गौड़ सहित एक अन्य संबंधी श्रीनिवास राव और किराये के दो हत्यारों को हिरासत में ले लिया है.

पुलिस का कहना है कि हिरासत मे लिए गए लोगों की दी हुई सूचना पर ही पुलिस ने गुंटूर नगर के निकट ऑटो नगर के इलाके की एक फैक्ट्री के बॉयलर से वैष्णवी का बुरी तरह जला हुआ शव बरामद किया.

पुलिस के अनुसार वैष्णवी को अपहरण के पंद्रह मिनट के अंदर ही गला घोंट कर मार दिया गया और सबूत मिटाने के लिए उस के शव को जला दिया गया.

मुख्यमंत्री के रोसैया ने कहा कि पुलिस संदिग्धों से पूछताछ कर रही है.

उन्होंने कहा कि ज़रुरत पड़ने पर सरकार इस मामले के लिए एक विशेष अदालत भी स्थापित करेगी.

पिता और पुत्री के अंतिम संस्कार मे हज़ारों शोकाकुल लोगों के अलावा कई राजनीतिक हस्तियां भी शामिल हुईं.

कई मंत्रियों के अलावा तेलुगू देशम के अध्यक्ष चंद्रबाबू नायडू, प्रजा राज्यम के अध्यक्ष चिरंजीवी और भाजपा के अध्यक्ष बंडारू दत्तात्रेय भी शामिल थे.

संबंधित समाचार