'देश को बाँटने वाले नेताओं से बचें'

राहुल गांधी लोकल ट्रेन से अंधेरी से दादर गए
Image caption राहुल गांधी

भारी सुरक्षा इंतज़ाम के बीच मुंबई पहुँचे कांग्रेस के महासचिव राहुल गांधी ने युवाओं से विभाजनकारी राजनीति को नकारने की अपील की.

शिव सेना ने उनके इस दौरे का विरोध करने का आह्वान किया था. हालाँकि इसका ख़ास असर देखने को नहीं मिला.

अपनी बिहार यात्रा के दौरान राहुल गांधी ने मुंबई में उत्तर भारतीयों के ख़िलाफ़ भेद-भाव पर तीखी टिप्पणी की थी और कहा था कि मुंबई सारे भारतवासियों का है. इसी के बाद शिव सेना और राहुल के बीच वाक् युद्ध शुरु हो गया था.

जब राहुल गांधी मुंबई जाने वाले थे, उससे ठीक पहले शिव सेना ने अपने कार्यकर्ताओं से उन्हें काले झंडे दिखाने का आह्वान किया था.

हालाँकि पुलिस ने राहुल के रास्ते पर काले झंडे लिए शिव सेना कार्यकर्ताओं को हटा दिया.

राहुल गांधी ने अपने चिर परिचित अंदाज़ में पूर्व निर्धारित कार्यक्रम में अचानक बदलाव किया. वे विले पार्ले में छात्रों को संबोधित करने के बाद अंधेरी स्टेशन पहुँच गए और वहां से लोकल ट्रेन के दूसरे दर्जे में दादर तक की यात्रा की.

युवाओं से अपील

विले पार्ले के भाईदास सभागार में कॉलेज छात्रों को संबोधित करते हुए राहुल गांधी ने कहा, "अगर आप परिवर्तन लाना चाहते हैं तो राजनीति में आइए और कांग्रेस पार्टी से जुड़िए. कुछ लोग आपका ध्यान वास्तविक मुद्दों से हटाना चाहते हैं."

उनका कहना था, "कांग्रेस एकजुट भारत का समर्थन करती है. इस देश में दो तरह के नेता हैं, एक जो बाँटो और राज करो की नीति अपनाते हैं और दूसरे वो सभी को साथ लेकर आगे बढ़ते हैं."

कांग्रेस महासचिव ने कहा, "कुछ लोग आपको धर्म और भाषा के नाम पर बाँटना चाहते हैं और कांग्रेस उनके ख़िलाफ़ है."

स्टेशन परिसर, ट्रेन और भाईदास सभागार में राहुल गांधी आम लोगों से भी मिले और कुछ बातचीत की.

उनकी यात्रा को देखते हुए मुंबई पुलिस ने कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की थी.

संबंधित समाचार