सत्रह साल फ़रार रहने के बाद गिरफ़्तार

  • 7 फरवरी 2010
मुंबई धमाके
Image caption मुंबई में हुए धमाकों में 250 से ज़्यादा लोग मारे गए थे.

मुंबई में 1993 में हुए सिलसिलेवार बम धमाकों का एक अभियुक्त उस घटना के 17 साल बाद पकड़ा गया है.

मुंबई पुलिस ने शनिवार रात को फिरोज़ अब्दुल राशिद ख़ान को नवी मुंबई से गिरफ़्तार किया.

पुलिस ने बताया कि 40 वर्षीय फिरोज़ को केंद्रीय जाँच एजेंसी यानी सीबीआई के हवाले कर दिया गया है जो इस मामले की जाँच कर रही है.

फिरोज़ पर दो लाख रूपए का ईनाम था.

बम धमाकों के बाद वह देश से फरार हो गए थे.वह तीन फरवरी को दुबई से यहां पहुंचे थे. उन्हें गुप्त सूचना के आधार पर गिरफ्तार किया गया.

इसी मामले में एक और फरार अभियुक्त मुहम्मद दौसा का करीबी सहयोगी फिरोज़ कथित तौर पर हथियार, गोला-बारूद और आरडीएक्स को लाने-ले जाने और वितरण में शामिल थे.

1993 में धमाकों के बाद ही वह नेपाल के रास्ते फ़र्ज़ी नाम से दुबई चले गए थे.फिर वहाँ से पहली बार 2004 में वे भारत आए थे.

मुंबई में 12 मार्च, 1993 को हुए सिलसिलेवार धमाकों में 257 लोग मारे गए थे और 700 से भी ज़्यादा घायल हो गए थे.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार