चरमपंथियों के मंसूबे पूरे नहीं होंगे

पी चिदंबरम
Image caption चिदंबरम ने चौकस रहने की हिदायत दी

गृह मंत्री पी चिदंबरम ने कहा है कि पाकिस्तान स्थित चरमपंथी गुटों के मंसूबे को कभी पूरा होने नहीं दिया जाएगा.

उन्होंने इन संगठनों को 'काली ताक़त' की संज्ञा दी और कहा कि भारत इन चरमपंथी गुटों की गतिविधियों पर नज़र रखे हुए है.

नई दिल्ली में आंतरिक सुरक्षा पर मुख्यमंत्रियों के सम्मेलन में पी चिदंबरम ने कहा लश्कर-ए-तैबा और हिज़बुल मुजाहिदीन जैसे चरमपंथी संगठनों ने मुज़फ़्फ़राबाद में एक बैठक की थी.

उन्होंने बताया कि इस बैठक से यह स्पष्ट था कि ये ग्रुप भारत के कितने ख़िलाफ़ हैं.

ज़रूरत

चिदंबरम ने कहा, "हिंसा और विनाश इनके हथियार हैं. इनका लक्ष्य है जबरन कश्मीर का अपने में विलय. लेकिन मैं स्पष्ट कर देना चाहता हूँ कि इन काली ताक़तों के मंसूबे पूरे नहीं होंगे."

गृह मंत्री ने कहा कि पिछले 14 महीनों के दौरान देश में न तो कोई बड़ा चरमपंथी हमला हुआ है और न ही सांप्रदायिक हिंसा, लेकिन इसका मतलब ये नहीं कि देश निशाने पर नहीं है या हमले की कोशिशें नहीं हो रही हैं.

उन्होंने कहा कि हमें चौकस रहने की आवश्यकता है और अपनी संस्थाओं को इतना प्रभावी बनाना है ताकि वे किसी तरह के ख़तरे से निपटने में सक्षम हों.

संबंधित समाचार