राठौर पर चाकू से हमला

  • 8 फरवरी 2010
एसपीएस राठौर
Image caption राठौर को इस मामले में सज़ा सुनाई जा चुकी है

हरियाणा के चर्चित रुचिका गिरहोत्रा मामले के प्रमुख अभियुक्त एसपीएस राठौर पर एक व्यक्ति ने चाकू से हमला किया है.

हमला उस समय हुआ जब राज्य के पूर्व पुलिस महानिदेशक राठौर चंडीगढ़ में अदालत से बाहर आ रहे थे.

एक अज्ञात व्यक्ति ने चाकू से राठौर के चेहरे पर हमला किया. राठौर के चेहरे पर चोट आई है और उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया. जहाँ इलाज के बार राठौर दोबारा कोर्ट भी पहुँचे.

वहाँ मौजूद पुलिसकर्मियों और लोगों ने उस व्यक्ति को पकड़ लिया. अब यह व्यक्ति पुलिस की हिरासत में है.

'हमलावर युवक'

हरियाणा के पूर्व डीजीपी पर चाकू से हमला करने वाले युवक का नाम उत्सव शर्मा बताया जा रहा है और वह अहमदाबाद में नेशनल इंस्टिच्यूट ऑफ़ डिज़ाइन (एनआईडी) का छात्र है.

एनआईडी के निदेशक प्रद्युम्न व्यास ने समाचार एजेंसी पीटीआई को बताया कि अगर उत्सव के ख़िलाफ़ आपराधिक मामला दर्ज होता है तो संस्था अपने नियमों के तहत उस पर कार्रवाई करेगी.

एनआईडी के प्रवक्ता समीर मोरे ने कहा, "उस युवक की पहचान उत्सव शर्मा के रूप में की गई है, जो हमारी संस्था से एनिमेशन और फ़िल्म डिज़ाइन में पीजी डिप्लोमा कर रहा है. उत्सव ने दो साल का कोर्स पूरा कर लिया है, लेकिन अभी उसे डिप्लोमा का प्रमाणपत्र नहीं दिया गया है. क्योंकि उसने नियमों के तहत अनिवार्य इंटर्नशिप नहीं किया है."

मोरे ने बताया कि अधिकारी उत्सव शर्मा की पृष्ठभूमि के बारे में छानबीन कर रहे हैं.

रुचिका गिरहोत्रा मामले में अदालत ने एसपीएस राठौर को दोषी ठहराया था. राठौर ने अदालत के इस फ़ैसले के ख़िलाफ़ अपील की है और इस पर सुनवाई चल रही है.

सुनवाई

राठौर की अपील पर लगातार तीन दिनों तक बंद कमरे में सुनवाई होनी है. सोमवार को सुनवाई का पहला दिन था.

इस दौरान सीबीआई की उस याचिका पर भी सुनवाई होनी है, जिसके तहत सीबीआई ने राठौर की सज़ा छह महीने से बढ़ाकर दो साल करने की मांग की है.

रुचिका गिरहोत्रा छेड़छाड़ मामले में एसपीएस राठौर को दोषी ठहराते हुए दिसंबर में छह महीने के कठोर कारावास की सज़ा सुनाई थी, फिर उन्हें ज़मानत भी मिल गई थी.

अगस्त 1990 में 14 वर्षीय रुचिका गिरहोत्रा के साथ छेड़छाड़ का मामला प्रकाश में आया था. उस समय एसपीएस राठौर हरियाणा पुलिस में महानिरीक्षक थे और साथ ही पंचकुला में हरियाणा लॉन टेनिस एसोसिएशन के अध्यक्ष भी थे.

इस घटना के तीन साल बाद अगस्त 1993 में रुचिका ने आत्महत्या कर ली थी.

संबंधित समाचार