बर्फ़ीले तूफ़ानों में 150 अफ़ग़ान मारे गए

अफ़ग़ानिस्तान में बर्फ़ से ढके पहाड़
Image caption हिंदू-कुश की सालांग सुरंग भारतीय उपमहाद्वीप और मध्य एशिया को जोड़ती है

अफ़ग़ानिस्तान में आए बर्फ़ीले तूफ़ानों में मरने वालों की संख्या 150 हो गई है.

सरकार के अनुसार मंगलवार रात अफ़ग़ानिस्तान की राजधानी काबुल के उत्तर में स्थित सालांग दर्रे से सौ से ज़्यादा शव निकाले गए हैं.

प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि अनेक लोग तब मारे गए जब उनके वाहन ऊँचे पहाड़ो से नीचे खाई में गिर गए.

सालांग दर्रे की एक सुरंग अफ़ग़ानिस्तान की राजधानी काबुल को उत्तरी अफ़ग़ानिस्तान के मज़ार-ए-शरीफ़ शहर के साथ जोड़ती है.

आगे चल कर ये दर्रा भारतीय उप महाद्वीप और मध्य एशिया से जोड़ता है.

'2500 को बचाया गया'

लगातार तीसरे दिन भी राहतकर्मी उन लोगों तक पहुँचने की कोशिश में जुटे हुए हैं जो बर्फ़ में फँसे हुए हैं.

सरकार के मुताबिक अब तक लगभग 2500 लोगों को बचाया गया है लेकिन डर है कि कई दिनों की बर्फ़बारी के कारण अनेक लोग बर्फ़ के नीचे दबे हुए हो सकते हैं.

गृह मंत्रालय के प्रवक्ता जेमेरी बाशारी ने समाचार एजेंसी एपी को बताया कि बचाव दलों ने काबुल को मज़ार-ए-शरीफ़ से जोड़ने वाली सड़क से पिछले दो दिनों में 157 शवों को बरामद किया है.

राहत दल एंबुलेंसों और बुलडोज़रों के प्रभावित इलाक़ों में पहुँचने के लिए रास्ता साफ़ करने में जुटे हुए हैं.

संबंधित समाचार