लश्करे तैबा अल आलमी ने ज़िम्मेदारी ली

पुणे
Image caption पुणे की जर्मन बेकरी में हुए विस्फ़ोट में नौ लोग मारे गए थे.

एक अनजाने चरमपंथी संगठन लश्केर तैबा अल आलमी ने भारत के पुणे शहर में हुए धमाकों की ज़िम्मेदारी लेने का दावा किया है.

संगठन का कहना है कि भारत ने पाकिस्तान के साथ कश्मीर मु्द्दे पर बात नहीं की इसलिए ये धमाके किए गए हैं.

संगठन की तरफ़ से एक व्यक्ति ने पाकिस्तान के इस्लामाबाद में द हिंदू अख़बार की संवाददाता निरुपमा सुब्रमण्यम को फ़ोन किया और धमाकों की ज़िम्मेदारी ली.

इस व्यक्ति ने अपना नाम अबू जिंदल और ख़ुद को लश्करे तैबा अल अलामी का प्रवक्ता बताया.

ज़िंदल ने दावा किया कि उनके संगठन ने पुणे में धमाके किए क्योंकि भारत ने आने वाले दिनों में पाकिस्तान के साथ वार्ता में कश्मीर पर बात करने से इंकार किया है.

इस व्यक्ति का कहना था कि अमरीका के साथ भारत के बढ़ते रिश्तों के कारण भी यह हमला किया गया था.

ज़िंदल के अनुसार उनका संगठन पाकिस्तान की खुफ़िया एजेंसी आईएसआई से आदेश लेता है.

इस व्यक्ति ने कथित रुप से कहा, ‘‘ जो भी अमरीका का इत्तेहाद होगा हम उसके ख़िलाफ़ लड़ेंगे. चाहे वो इंडिया हो या पाकिस्तान.’’

निरुपमा सुब्रहमण्यम के अनुसार फोन करने वाला व्यक्ति पढ़ा लिखा और 20-22 साल की उम्र का प्रतीत हो रहा था और उसका कहना था कि वो पाकिस्तान के मीरामशाह से बात कर रहा है.

सुब्रहमण्यम का कहना था कि फोन करने वाला का एरिया कोड वज़ीरिस्तान के आसपास का था लेकिन जब उन्होंने इस नंबर पर फोन किया तो उस पर रिकार्डेड संदेश आया कि यह नंबर सेवा में नहीं है.

संबंधित समाचार