माओवादियों ने हेडमास्टर को अगवा किया

  • 6 मार्च 2010
माओवादी (फाइल)

पश्चिम बंगाल के एक ग्रामीण इलाके में सशस्त्र माओवादियों ने एक स्कूल के प्रधानाचार्य को अगवा कर लिया है.

माओवादियों का कहना है कि हेडमास्टर को उसी सूरत में छोड़ा जाएगा, जब कि पिछले दिनों बंदी बनाए गए छह ग्रामीणों को रिहाई दे दी जाएगी.

हेडमास्टर को अगवा करने की यह घटना शुक्रवार को हुई.

माओवादियों के सशस्त्र धड़े के प्रमुख, कोटेश्वर राव उर्फ़ किशन जी ने बीबीसी को बताया कि ये छह ग्रामीण लोग निर्दोष हैं लेकिन पुलिस ने बिना किसी कारण के इन लोगों को बंदी बना लिया है.

उन्होंने कहा, "हमने पश्चिम बंगाल सरकार को दो दिन का वक़्त दिया है कि इस समयावधि के भीतर इन ग्रामीणों को बिना किसी शर्त रिहा कर दिया जाए. दो दिनों में ऐसा होने तक प्रधानाचार्य सुरक्षित हैं लेकिन इससे अधिक देरी होने पर हम प्रधानाचार्य के सुरक्षा के लिए ज़िम्मेदार नहीं होंगे."

अगवा किए गए हेडमास्टर, रंजीत दुबे बांकुरा ज़िले के सारंगा इलाके से हैं जहाँ से इन्हें तीन मोटरसाइकिलों पर सवार छह माओवादियों ने अपने कब्ज़े में ले लिया था.

वैसे, इससे पहले भी माओवादी लड़ाके अतिंद्रनाथ दत्त नाम के एक इंस्पेक्टर को अगवा करके कम से कम 20 ग्रामीणों को पुलिस हिरासत से मुक्त करवा चुके हैं.

संबंधित समाचार