तेलंगाना मुद्दे पर एक और आत्महत्या

आत्महत्या करने वाले छात्र की तस्वीर
Image caption फ़रवरी में भी एक छात्र ने आत्मदाह किया था जिसकी बाद में मौत हो गई थी

आंध्र प्रदेश से पृथक तेलंगाना राज्य के गठन के मुद्दे पर हैदराबाद स्थित उस्मानिया विश्वविद्यालय के एक छात्र ने फांसी लगा कर अपनी जान दे दी है.

पुलिस के अनुसार आत्महत्या करने वाला साईं कुमार इंजीनियरिंग के प्रथम वर्ष का छात्र था और उसने हॉस्टल के अपने कमरे में फांसी लगाई, जिसके बाद कुछ छात्रों ने उसे अस्पताल पहुंचाया जहाँ डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया.

इससे पहले भी 20 फ़रवरी को एक छात्र ने इसी मुद्द पर आत्मदाह किया था, जिसके बाद उसकी मौत हो गई थी.

ताज़ा घटना के साथ ही विश्वविद्यालय परिसर में तनाव बढ़ गया है और बड़ी संख्या में छात्र तेलंगाना के पक्ष में नारे लगाते देखे गए. पुलिस ने एहतियाती क़दम उठाते हुए परिसर में सुरक्षा बढ़ा दी है.

'निराशा'

पुलिस का कहना है कि नलगोंडा ज़िले के कोदाद का रहने वाला साईं कुमार ने एक पत्र भी छोड़ा है जिसमें उसने लिखा है कि वो तेलंगाना के लिए अपनी जान दे रहा है, क्योंकि उसे तेलंगाना के "द्रोही" राजनेताओं ने निराश किया है.

Image caption छात्र ने अपने पत्र में लिखा है कि वो तेलंगाना के समर्थन अपनी जान दे रहा है

पत्र के अनुसार उसका दावा है कि राजनेता कभी भी तेलंगाना राज्य को हासिल नहीं कर पाएंगे.

साईं कुमार ने यह आख़िरी इच्छा भी ज़ाहिर की है कि उसकी अंतिम यात्रा उस्मानिया विश्वविद्यालय से राज्य विधान सभा तक निकाली जाए.

साईं कुमार नलगोंडा ज़िले के ऐसे तीसरे छात्र हैं जिसने पिछले तीन महीनों में तेलंगाना मुद्दे पर आत्माहत्या की है.

पृथक तेलंगाना राज्य के लिए आंदोलन चलाने वाली तेलंगाना संयुक्त संघर्ष समिति का दावा है कि अबतक 350 से अधिक छात्रों और युवाओं ने तेलंगाना राज्य के समर्थन में आत्महत्या की है.

तेलंगाना के सभी ज़िलों में जगह-जगह ऐसे पोस्टर्स और होर्डिंग लगाए गए हैं जिनपर आत्माहत्या करने वाले युवाओं और छात्रों के चित्र लगे हैं और उन्हें 'तेलंगाना के शहीद' और 'हीरो' के तौर पेश किया गया है.

उधर तेलंगाना आंदोलन के साए में जूनियर कालेजों की वो परीक्षाएं प्रभावित हो रहीं हैं जो बुधवार से शुरू हो रही हैं.

संबंधित समाचार