महिला आरक्षण विधेयक पर हो-हल्ला जारी

महिला आरक्षण विधेयक राज्यसभा में भले ही पारित हो गया हो लेकिन इसको लेकर संसद में बवाल रुकने का नाम नहीं ले रहा है.

राज्यसभा और लोकसभा में इस मामले में गरमा-गरम बहस हुई और सदन को कई बार स्थगित भी करना पड़ा. लोकसभा में वित्त मंत्री प्रणब मुखर्जी ने कहा है कि सरकार सभी मुद्दों पर चर्चा के लिए तैयार है.

उन्होंने कहा कि सांसदों को सदन के नियमों का पालन करना चाहिए. प्रणब मुखर्जी ने कहा कि इस मुद्दे पर चर्चा के लिए सभी पार्टियों को मिलना चाहिए.

लोकसभा में राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के अध्यक्ष लालू यादव ने एक बार फिर महिला आरक्षण विधेयक पर अपनी आपत्तियाँ दर्ज कराईं.

मतभेद

उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी आरक्षण के ख़िलाफ़ नहीं है, लेकिन वे चाहते हैं कि इस विधेयक में पिछड़ी, दलित और मुसलमान महिलाओं को आरक्षण मिले.

लालू यादव ने कहा कि कांग्रेस को इस विधेयक पर आंसू बहाना होगा. उन्होंने दावा किया कि भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस में इसे लेकर मतभेद है.

समाजवादी पार्टी के मुलयाम सिंह यादव ने राज्यसभा से सांसदों को निकाले जाने के तरीक़े पर अपनी नाराज़गी ज़ाहिर की. जनता दल (यूनाइटेड) के अध्यक्ष शरद यादव ने कहा कि महिला आरक्षण विधेयक पर सर्वदलीय बैठक बुलानी चाहिए.

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने उन्हें आश्वासन दिया था कि इस पर सहमति बनाई जाएगी.

पिछले दिनों शोर-शराबे के बीच राज्यसभा से महिला आरक्षण विधेयक पारित हो गया था. लेकिन अब इसे लोकसभा में पेश किया जाना है.

संबंधित समाचार