तोंद वाले पुलिस वालों की छुट्टी

मुंबई पुलिस
Image caption मक़सद है कि ज़रूरत से अधिक बाहर निकल चुके पेट पर क़ाबू पाया जा सके.

मुंबई पुलिस ने अतीत में अपने जवानों की सेहत सुधारने के लिए कई प्रयास किए हैं लेकिन रेलवे सुरक्षा बल (आरपीएफ़) का नया तरीक़ा पहले से काफ़ी अलग है और कारगर साबित होने की संभावना भी अधिक मानी जा रही है.

चुस्त-दुरुस्त और सेहतमंद बने रहने के लिए आरपीएफ़ के प्रमुख बीएस सिद्धू ने अपने ही ऑफ़िस में जिम सेंटर यानी व्यायामशाला खोली है, ताकि जवान ज़रूरत से ज़्यादा बाहर निकल चुके पेट पर क़ाबू पा सकें.

किसी अधिकारी के ज़रिए अपने जवानों के लिए अपने ही दफ़्तर में जिम सेंटर खोलना चर्चा का विषय है.

अपने इस नए क़दम के बारे में बीएस सिद्धू कहते है, "ये जिम उन पुलिस वालों के लिए है जो सीएसटी स्टेशन पर तैनात रहते हैं. हमने कई बार उन्हें चेतावनी दी पर समय कम होने की वजह से और जिम दूर होने से हमारे जवान बराबर व्यायाम नहीं कर पाते थे. इस जिम में ख़ाली समय में कमांडोज़ आकर व्यायाम कर सकते है. उन्हें ये अभ्यास नियमित रूप से करना होगा."

आसानी

उनका कहना है कि ये अभ्यास पुलिस वालों को 'ऑन ड्यूटी' करना है. वर्तमान में सीएसटी स्टेशन पर क़रीब 35 पुलिसकर्मी और आरपीएफ के आठ कमांडो एक शिफ्ट में तैनात होते हैं. कमांडो की ड्यूटी नौ घंटे की होती है. जिसमे पहले और आख़िरी के तीन-तीन घंटे काम करना होता है और बीच का तीन घंटा 'रेस्ट पीरियड' होता है.

रेलवे सुरक्षा बल के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, "हमारा एक ही जिम है जो कि मुलुंड में है. हमारी ड्यूटी का समय ऐसा होता है कि रोज़-रोज़ वहां जाकर जिम करना मुश्किल है. अपनी ड्यूटी पर आने जाने में ही तीन से चार घंटे लग जाते है. इसके अलावा आठ घंटे का शिफ्ट कभी कभी 12 घंटे में परिवर्तित हो जाता है. कहाँ जिम के लिए समय है?"

लेकिन सीएसटी में तैनात एक कमानडो ने कहा, "हमारे लिए तो कितना भी काम हो लेकिन जिम करना अनिवार्य है. इस सुविधा के होने से हमारा समय काफ़ी बचेगा."

इस व्यायाम उपकरण की क़ीमत सवा लाख रुपए है. यह जिम 24 घंटो के लिए खुला रहेगा.

संबंधित समाचार