मायावती फिर 'माला'माल

मायावती

बहुजन समाज पार्टी के गठन की 25वीं सालगिरह पर मायावती को नोटों की माला पहनाने को लेकर विवाद अभी ठंडा नहीं हुआ है.

इस बीच पार्टी ने एक और नोटों की माला उन्हें पहना दी है. पार्टी सांसदों, मंत्रियों और अधिकारियों की बैठक के दौरान मीडिया के सामने उन्हें नोटों की ये माला पहनाई गई.

पार्टी कार्यकर्ताओं ने मायावती के समर्थन में नारे भी लगाए. पार्टी का कहना है कि अब मायावती को सिर्फ़ नोटों की माला ही पहनाई जाएगी.

पिछले दिनों बहुजन समाज पार्टी के गठन की 25वीं सालगिरह और कांशी राम के जन्मदिन के मौक़े पर हुई महारैली के दौरान मायावती को नोटों की माला पहनाई गई थी.

कांग्रेस, समाजवादी पार्टी और भारतीय जनता पार्टी ने इस पर कड़ी आपत्ति जताई थी और आरोप लगाया था कि ये सरकारी धन और सरकारी मशीनरी का दुरुपयोग है.

हालाँकि बसपा का तर्क है कि नेताओं को नोटों की माला पहनाने और सिक्कों से तौलने की परंपरा पुरानी है और मायावती के संबंध में नया कुछ नहीं हुआ है.

संबंधित समाचार