'सही समय पर हेडली के ख़िलाफ़ आरोपपत्र'

गृह मंत्री पी चिंदबरम ने दिल्लों में पत्रकारों को बताया है कि डेविड हेडली मामले में भारत सही समय पर आरोपपत्र दायर करेगा.

पाकिस्तानी मूल के अमरीकी नागरिक डेविड कोलमेन हेडली ने कुछ दिन पहले अमरीका में अपना गुनाह कबूल कर लिया है और कहा है कि वो मुंबई हमले की साज़िश में शामिल थे. उन्होंने ये बयान शिकागो की एक अदालत में दिया था.

मुंबई हमलों के एक और अभियुक्त तहव्वुर राणा के बारे में चिदंबरम ने कहा, "राणा ने अपना गुनाह नहीं कबूल किया है. उसके ख़िलाफ़ मुकदमा चलेगा. जब उसके ख़िलाफ़ चार्जशीट दायर होगी तब हम सोचेंगे कि क्या करना है. अभी हमारे पास पूरी जानकारी नहीं है."

उनसे पूछा गया कि भारत अमरीकी न्याय मंत्रालय को कब पत्र लिखेगा तो उन्होंने कहा कि पहले भारत को सारे क़ानूनी कागज़ात तैयार करने होंगे.

कसाब मामले पर भी उनसे प्रतिक्रिया माँगी गई. गृह मंत्री ने केवल इतना कहा कि मुकदमा अभी पूरा नहीं हुआ और फैसला आना बाक़ी है.मुंबई हमलों में एकमात्र जीवित पकड़े गए हमलावर अजमल आमिर कसाब के ख़िलाफ़ सुनवाई पूरी हो गई है. फ़ैसला तीन मई को सुनाया जाएगा.

पत्रकारों ने उनसे माओवादी नेता किशनजी के बारे में भी पूछा कि क्या वे कारवाई के दौरान घायल हो गए हैं. गृह मंत्री ने जवाब कुछ यूँ दिया, "मुझे नहीं लगता कि उन्होंने आप लोगों को पिछले 10 दिनों सो कोई फ़ोन किया है."

गृह मंत्री ने हाल में हैदराबाद में हुई सांप्रदायिक हिंसा के बारे में भी बयान दिया. उन्होंने कहा कि ऐसा हो सकता है कि कुछ असामाजिक तत्वों ने जान बूझकर किसी छोटे-मोटे मसले को लेकर हिंसा भड़का दी हो.

एक अन्य समारोह में चिदंबरम ने बुधवार को कहा था कि केंद्र सरकार 2005 से एक ऐसे क़ानून पर काम कर रही है जिसमें सांप्रदायिक हिंसा को रोकने, नियंत्रण और पीड़ितों के पुर्नवास पर ग़ौर किया जा रहा है. उन्होंने कहा कि इस साल के अंत तक संभवत ये क़ानून लागू हो जाएगा.

संबंधित समाचार