पानी को लेकर हाहाकार

  • 26 अप्रैल 2010
पानी की समस्या
Image caption मध्य प्रदेश के अनेक हिस्सों में पानी की क़िल्लत है.

गर्मी की शुरुआत के साथ ही मध्य प्रदेश में पानी को लेकर हाहाकार मचा हुआ है. हालात बेक़ाबू होते जा रहे हैं और अब तक राज्य में पानी को लेकर हुए झगड़ों कई लोगों की जानें जा चुकी हैं.

पिछले दिनों इंदौर में एक व्यक्ति ने पानी के विवाद में एक 18 वर्षीय लड़की की हत्या कर दी. ये लड़की इंदौर के सर्राफ़ा क्षेत्र में नल से पानी भर रही थी, तभी पानी भरने को लेकर उसकी लड़ाई पड़ोसी से हो गई. विवाद इतना बढ़ा की पड़ोसी ने चाकू से लड़की की हत्या कर दी.

गर्मी की अभी शुरुआत है, लेकिन राज्य के कई शहरों में पानी की ज़बरदस्त क़िल्लत महसूस की जा रही है.

हालात को देखते हुए सरकार ने एलर्ट जारी कर दिया है. प्रदेश के नगर प्रशासन मंत्री सिर्फ़ पानी को लेकर हुई हत्याओं से इनकार कर रहे हैं. उनका कहना है कि इन हत्याओं में आपसी रंजिश भी वजह है.

इसके अलावा प्रदेश के रतलाम शहर में भी पानी भरने के विवाद पर एक मज़दूर ने मुनीम रामचंद्र प्रजापति को गोली मार दी थी. इसके पूर्व पिछले माह भी पानी को लेकर दो हत्याएं हो चुकी है.

समस्या

प्रदेश के अन्य हिस्सों से भी पानी को लेकर विवाद और मारपीट की ख़बरें आ रही हैं. प्रदेश सरकार की ओर से पेयजल समस्या से निपटने के लिए अनेक प्रयास किए जा रहे हैं.

वहीं पुलिस महानिरीक्षक (क़ानून और व्यवस्था) एके सोनी कहते हैं, "हमनें सभी पुलिस अधीक्षकों को आदेश दिया है जहां पर भी टेंकर के ज़रिए पानी का वितरण हो रहा है वहां पर पुलिस फोर्स उपलब्ध कराए जाएं."

पिछले साल भी पानी को लेकर कई जगह विवाद हुए थे और 30 से अधिक वारदातों में लगभग 15 से अधिक मौतें हुई थीं.

इस साल भी प्रदेश के एक बड़े हिस्से में पानी की क़िल्लत महसूस की जा रही है.

प्रदेश के 38 ज़िलों की तहसीलें सूखाग्रस्त घोषित कर दी गई है. वही 14 में से सात नगर निगमों की हालात बहुत ख़राब है.

अलग-अलग शहरों में पानी की सप्लाई दो दिन, तीन दिन, पांच दिन और कुछ जगह ऐसी भी है जहां सप्ताह में एक दिन ही पानी मिल पा रहा है.

प्रदेश के आधे जिलों में इस साल भी 50 प्रतिशत से कम वर्षा हुई है, जिसके चलते ये स्थिति बन रही है.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार