क्या सीबीआई औज़ार बन गई है?

बीबीसी हिंदी की विशेष लाइव कमेंटरी. बीबीसी हिंदी की विशेष लाइव कमेंटरी.
यह अपने आप अपडेट होता रहेगा.

ताज़ा पेज देखें

20.29-आज के कार्यक्रम में बस इतना ही. अगली बार एक नए मुद्दे के साथ चर्चा होगी. नमस्कार.

20.26- रोहतक से देशबंधु का कहना है कि राजनीति गंदी हो चुकी है. सरकारें सीबीआई का अपने फ़ायदे के लिए इस्तेमाल करती हैं. जनता कुछ समझ नहीं पाती कि ऐसे में क्या करना चाहिए.

20.24- बाड़मेर से अंजू कहती हैं सरकारें जिस तरह सीबीआई का इस्तेमाल करती हैं उससे सीबीआई पर जनता का भरोसा कमज़ोर होता है.

20.22- दुबई से ज़िया जाफ़री कहते हैं कि सीबीआई आजकल नेताओं के हाथ की कठपुतली बन गई है। सीबीआई का नाम कांग्रेस इंवेस्टिगेशन ब्यूरो कर दिया जाना चाहिए.

20.21- शिकागो से सुरिंदर ने चिट्ठी के ज़रिए अपनी राय रखी कि सीबीआई सरकार के हिसाब से काम करती है.

20.18- मध्य प्रदेश के बड़वानी से रहमत भाई का कहना है कि सीबीआई या और किसी भी जांच एजेंसी का सरकार औज़ार की तरह इस्तेमाल करती है.

20.15- बाड़मेर से गणपत गोदारा कहते हैं केंद्र में जो भी सरकार होती है, सीबीआई उसी के नियंत्रण में काम करती है.

20.10- अल्मोड़ा से क्रांति जोशी कहते हैं कि छोटे राजनीतिक दल डरते हैं कि केंद्र की सरकार सीबीआई के ज़रिए उन्हें फंसा सकती है.

20.08- बीकानेर से नवल दहिया का कहना है कि जो भी सरकारें सत्ता में आती हैं वो सीबीआई का अपने फ़ायदे के लिए इस्तेमाल करती हैं.

20.06-महाराजगंज उत्तर प्रदेश से राम नगीना का कहना है कि सीबीआई को निष्पक्ष होना चाहिए और सरकार को इसके कामकाज में दखल नहीं देना चाहिए.

19.55 IST: राजेश जोशी स्टूडियो में पहुँच चुके हैं और जल्दी ही शुरु करेंगे हम आपसे चर्चा.

19.52 IST: चर्चा में भाग लेने के लिए मुफ़्त फ़ोन कीजिए 1800-11-7000 या 1800-102-7001 पर. हमें एसएमएस भेजना चाहें तो नंबर है--9999588868.

19.51 IST: थोड़ी ही देर में हम इस पर चर्चा करेंगे.

19.50 IST: आज का विषय है क्या विपक्ष को कमज़ोर करने के लिए केंद्र सरकार केंद्रीय जाँच ब्यूरो का इस्तेमाल करती है?

19.49 IST: नमस्कार बीबीसी इंडिया बोल में आपका स्वागत है.

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.